दैनिक भास्कर हिंदी: दाभोलकर हत्याकांड : चार सप्ताह में पूरा हो जाएगा हथियार की खोज का काम

October 15th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर मामले में इस्तेमाल किए गए हथियार की खोज को लेकर जारी आपेरशन चार सप्ताह में पूरा कर लिया जाएगा। सोमवार को सीबीआई की ओर से पैरवी कर रहे अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने बांबे हाईकोर्ट कोर्ट को यह जानकारी दी है। सीबीआई की टीम विशेषज्ञों की मदद से कलवा (ठाणे) की खाड़ी में हथियार की खोज कर रही है। क्योंकि आरोपियों ने दाभोलकर की हत्या के बाद हथियार को खाड़ी में फेक दिया था। इससे पहले सिंह ने मामले की जांच को लेकर न्यायमूर्ति एससी धर्माधिकारी व न्यायमूर्ति गौतम पटेल की खंडपीठ के सामने प्रगति रिपोर्ट पेश की। इसके साथ ही कहा कि असलहे की खोज का काम पूरा होने के कगार पर है। यह काम चार सप्ताह में पूरा कर लिया जाए। 

सुनवाई के दौरान सामाजिक कार्यकर्ता गोविंद पानसरे हत्या मामले की जांच को लेकर भी प्रगति रिपोर्ट खंडपीठ के सामने पेश की गई। राज्य सरकार की ओर से गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) इस मामले की जांच कर रहा है। एसआईटी की ओर से पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक मुंदरगी ने कहा कि इस मामले में दो फरार आरोपियों की तलाश अब तक पूरी नहीं हो पायी है। पूरे देश में एसआईटी से जुड़े लोग आरोपी की तलाश कर रहे हैं। खंडपीठ के सामने दाभोलकर व पानसरे के परिजनों की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई चल रही है। याचिका में मांग की गई है कि अदालत की निगरानी में इस प्रकरण की जांच की जाए। 

एसआईटी की ओर से पेश की गई रिपोर्ट के मद्देनजर दाभोलकर व पानसरे के परिजनों की ओर से पैरवी कर रहे अधिवक्ता अभय नेवगी ने कहा कि पानसरे मामले की जांच बिल्कुल थम सी गई है। अब तक फरार आरोपियों की तलाश पूरी नहीं हो पायी है। इसलिए पानसरे मामले की जांच कर रहे अधिकारी को हटा कर नए अधिकारी की नियुक्ति की जाए। इस पर खंडपीठ ने श्री नेवगी को अपनी इस मांग के संदर्भ में आवेदन दायर करने को कहा। खंडपीठ ने फिलहाल मामले की सुनवाई 22 नवंबर 2019 तक के लिए स्थगित कर दी है।