comScore

संसद का मॉनसून सत्र: पहले दिन दो बिल हुए पास, लोकसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के बीच विशेष तैयारियों के साथ संसद का मॉनसून सत्र (Monsoon session of Parliament) आज से शुरू हो गया है। 17वीं लोकसभा का चौथा सत्र एक अक्टूबर तक चलेगा। सोमवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही सदन में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी समेत 15 दिवंगत सांसदों को श्रद्धांजलि दी गई। इसके बाद 1 घंटे के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी गई। दोबारा कार्यवाही शुरू होने के बाद सांसदों ने कोरोना, अर्थव्यवस्था, ड्रग्स और चीन समेत कई मुद्दे उठाए। दो बिल भी पास हुए हैं। फिलहाल कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित कर दी गई है। 

पहले दिन लोकसभा में दो बिल पास
मॉनसून सत्र के पहले दिन लोकसभा में दो बिल पास हुए। भारत में चिकित्सा पद्धति के लिए राष्ट्रीय आयोग बनाने और होम्योपैथी के लिए राष्ट्रीय आयोग 2020 लिए बिल पास हुए हैं। वहीं प्रश्न पूछने के लिए स्पीकर ओम बिड़ला ने सांसदों को आश्वस्त करते हुए कहा, सदस्यों की बात को सुना जाएगा। संकट की इस घड़ी में परिस्थितियों को समझते हुए सदस्य सहयोग करें। 

15 सांसदों के निधन पर शोक संदेश, सम्मान में 2 मिनट का मौन
सत्र की शुरुआत इस साल 15 सांसदों के निधन के शोक संदेश के साथ की गई। निचले सदन में सदस्यों के एकत्र होने के तुरंत बाद स्पीकर ओम बिड़ला ने दिवंगत सांसदों की याद में शोक संदेशों को पढ़ा। सदन में सत्र की शुरुआत सुबह 9 बजे हुई। इस दौरान सांसद एच. वसंतकुमार, प्रख्यात गायक पंडित जसराज, गुरदास सिंह बादल (सदस्य, 5वीं लोकसभा), नेपाल सिंह (सांसद, 16 वीं लोकसभा), अजीत जोगी (सांसद, 12वीं और 14वीं लोकसभा), पी. नामग्याल (7वीं, 8वीं, 11वीं लोकसभा), और पारस नाथ यादव (सांसद, 12वीं और 14वीं लोकसभा) को भी याद किया गया।

इनके अलावा, माधव राव पाटिल (12वीं लोकसभा सदस्य), हरिभाऊ माधव जवाले (14वीं और 15वीं), सरोज दुबे (10वीं), लालजी टंडन (15वीं), कमल रानी (11वीं और 12वीं), चेतन चौहान (10वीं और 12वीं), और सुरेंद्र प्रकाश गोयल (14वीं) को भी सभी सांसदों ने याद किया। लोकसभा ने इन सांसदों के सम्मान में 2 मिनट का मौन रखा, जिसके बाद अध्यक्ष ने सदन को एक घंटे के लिए स्थगित किया गया।

स्पीकर ओम बिड़ला ने प्रणब मुखर्जी का जिक्र करते हुए कहा, वह एक सफल वक्ता और प्रशासक थे। उनका ज्ञान और अनुभव अद्वितीय था। सदन में स्वर्गीय शास्त्रीय गायक पंडित जसराज, मध्य प्रदेश के दिवंगत राज्यपाल लालजी टंडन, छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी, उत्तर प्रदेश की मंत्री कमला रानी और चेतन चौहान और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह को भी श्रद्धांजलि दी गई।

रवि किशन ने सदन में डग्स का मुद्दा उठाया
लोकसभा में बीजेपी सांसद रवि किशन ने सदन में डग्स का मुद्दा उठाया। रवि किशन ने कहा, नशीले पदार्थों की तस्करी और लत की समस्या बढ़ रही है। देश के युवाओं को नष्ट करने के लिए षड्यंत्र रचे जा रहे हैं, हमारे पड़ोसी देश इसमें योगदान दे रहे हैं। हर साल पाकिस्तान और चीन से ड्रग्स की तस्करी की जाती है, जो पंजाब और नेपाल के रास्ते से लाया जाता है। ड्रग की लत फिल्म इंडस्ट्री में भी है। कई लोगों को पकड़ा गया है, NCB बहुत अच्छा काम कर रहा है। मैं केंद्र सरकार से सख्त कार्रवाई करने का आग्रह करता हूं, दोषियों को जल्द गिरफ्तार कर उन्हें सजा दी जाए और पड़ोसी देशों की साजिश का अंत किया जाए।

अर्थव्यवस्था- बेरोजगारी के मुद्दे पर बात करे सरकार-सुप्रिया सुले
लोकसभा में NCP नेता सुप्रिया सुले ने कहा, मुझे लगता है देश में अभी सबसे बड़ी चुनौती अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी की स्थिति है। मुझे लगता है आज हमें संसद में जो बहस करनी चाहिए वह अर्थव्यवस्था की स्थिति, महामारी और बेरोजगारी की चुनौतियां हैं। यह एक वैश्विक परिदृश्य है और हम इससे गुजरने वाले एकमात्र देश नहीं हैं। लेकिन यह सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए। मैंने देखा है, सरकार अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी की चुनौतियों के बारे में विस्तार से बात नहीं करती है। जबकि हमें इसे प्राथमिकता पर रखना चाहिए।

डीएमके संसद टीआर बालू ने 12 छात्रों के सुसाइड का मुद्दा उठाया और कहा, इस कठिन समय में NEET की परीक्षाओं की वजह से छात्रों को मानसिक तनाव से गुजरना पड़ा।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने दी कोरोना की जानकारी
लोकसभा में COVID19 पर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, यूपी, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, बिहार, तेलंगाना, ओडिशा, असम, केरल और गुजरात से अधिकतम कोरोना के मामले और मौतें दर्ज़ हुई हैं। इन सभी में 1 लाख से अधिक मामले दर्ज़ किए गए हैं। उन्होंने कहा, हमारे प्रयासों से देश में कोरोना पर रोकथाम लगी है। भारत में प्रति 10 लाख में 3,328 केस हैं और 55 मौतें हुई हैं। दुनिया के अन्य देशों की तुलना में भारत में ये कम है।

राजनाथ सिंह ने कहा, ज्यादातर पार्टियों के लोग प्रश्नकाल को हटाने पर सहमत हुए। मैं सभी सदस्यों से निवेदन करता हूं सदन की कार्यवाही में सहयोग करें।

चीनी घुसपैठ को लेकर स्थगन प्रस्ताव
कांग्रेस के सांसद अधीर रंजन चौधरी और के सुरेश ने लोकसभा में पूर्वी लद्दाख में चीनी घुसपैठ को लेकर स्थगन प्रस्ताव दिया है। DMK और CPI (M) ने NEET परीक्षा की वजह से 12 छात्राओं की आत्महत्या को लेकर लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया।

सांसदों ने 'Attendance Register' App के जरिए अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

कोरोना के चलते सुरक्षा की तैयारी
मॉनसून सत्र में स्वास्थ्य मंत्रालय की सभी गाइडलाइंस का कड़ाई से पालन होगा। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए सदस्यों को दोनों सदनों में बैठाया जा रहा है। सदस्यों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग के लिए प्लास्टिक शीट का इस्तेमाल किया जाएगा। विशेष तौर पर स्क्रीन और माइक्रोफोन का बंदोबस्त किया गया है।

257 सांसदों को सदन के मुख्य कक्ष में और 172 सांसदों को आगंतुकों की गैलरी में बैठाया जाएगा। इसके अलावा लोकसभा के 60 सदस्य राज्यसभा के मुख्य कक्ष में बैठेंगे। 51 सदस्य उच्च सदन (राज्यसभा) की गैलरी में बैठेंगे। शून्यकाल आधे घंटे का होगा और कोई प्रश्नकाल नहीं होगा, हालांकि लिखित प्रश्न पूछे जा सकते हैं और उनका उत्तर मिलेगा। इस सत्र में सरकार ने 23 विधेयकों और 11 अध्यादेश ला सकती है।

जानें सत्र की टाइमिंग
कोरोना को देखते हुए लोकसभा और राज्यसभा की टाइमिंग अलग-अलग रखी गई है। शनिवार और रविवार को कोई छुट्टी नहीं होगी। 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक मानसून सत्र में लोकसभा और राज्यसभा दोनों के लिए 36 संसदीय बैठकें होंगी। हर दिन के पहले चार घंटे राज्यसभा की कार्यवाही चलेगी और अगले चार घंटे लोकसभा काम करेगी।

- लोकसभा की कार्यवाही 14 सितंबर को पहले दिन सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक चलेगी। 15 सितंबर से 1 अक्टूबर तक लोकसभा की कार्यवाही दोपहर 3 से शाम 7 बजे तक चलेगी।

- राज्यसभा की कार्यवाही सोमवार (14 सितंबर) को दोपहर 3 बजे से शाम 7 बजे तक चलेगी। 15 सितंबर से बैठक का समय सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक हो जाएगा।

मेडिकल टीम और स्टैंडबाय पर एम्बुलेंस की सुविधा भी
सदन में प्रवेश करने वाले सभी लोगों के शरीर के तापमान को जांचने के लिए थर्मल गन और थर्मल स्कैनर का उपयोग किया जाएगा। सदन के भीतर 40 स्थानों पर टचलेस सैनिटाइटर लगाए गए हैं और आपातकालीन मेडिकल टीम और स्टैंडबाय पर एम्बुलेंस की सुविधा भी है। सभी सांसद अपनी उपस्थिति डिजिटल माध्यम से दर्ज कराएंगे।

मीडियाकर्मियों द्वारा मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर रोक
कोरोना के प्रकोप के मद्देनजर लोकसभा सचिवालय ने संसद भवन परिसर में मंत्रियों और सांसदों के लाइव टेलीकास्ट और बाइट के लिए मीडियाकर्मियों द्वारा मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है। रविवार को जारी आदेश में कहा गया, मीडियाकर्मी संसद भवन परिसर में कहीं भी मंत्रियों और संसद सदस्यों की बाइट लेने के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग नहीं कर सकते। आदेश में कहा गया, लाइव टेलीकास्ट के लिए मोबाइल फोन का उपयोग भी पहले की तरह प्रतिबंधित रहेगा। मीडियाकर्मियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

कमेंट करें
QPKEG