सिवनी: सरकारी जमीन पर बने तीन मकानों को किया ध्वस्त

May 14th, 2022

डिजिटल डेस्क, सिवनी। शासकीय रास्ते की जमीन पर अवैध कब्जा कर बनाए गए तीन मकानों को कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को जेसीबी से ध्वस्त कर दिया गया। राजस्व व पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में मकानों को तोड़कर अतिक्रमणमुक्त कराई गई भूमि का बाजार मूल्य 40 लाख रूपए बताया जा रहा है। एसडीएम केवलारी अमित सिंह के निर्देशन में हुई इस कार्रवाई के दौरान नायब तहसीलदार उगली इमरान मंसूरी,थाना प्रभारी उगली एस भारद्वाज, पटवारी यशवंत मर्सकोले,माल जमादार सरदार सिंह सहित राजस्व व पुलिस बल मौजूद रहा।

गांव में तीन मकान, फिर भी अतिक्रमण

उगली क्षेत्र के ग्राम रेचना में रहने वाले श्यामराव सोनी,निरंजन पवार व जागेश्वर पवार के गांव में तीन मकान होने के बावजूद उन्होंने शासकीय भूमि खसरा नंबर 215 रकबा 0.75 हेक्टयर मद शासकीय रास्ता पर अतिक्रमण कर मकान बना लिए थे। इससे 10 किसानों को अपने खेतों में जाने का रास्ता नहीं मिल पा रहा था और वे लंबे समय से परेशान थे। किसानों की परेशानी को देखते हुए अतिक्रमण कर बनाए गए मकानों को तोड़कर शासकीय भूमि कब्जामुक्त कराने की कार्रवाई की गई।

बेदखली आदेश भी हुआ था जारी

अतिक्रमण कर मकान बनाए जाने के कारण अपने खेतों में जाने के लिए परेशान हो रहे ग्रामीणों की लिखित शिकायत पर एसडीएम अमित सिंह द्वारा विधिवत अतिक्रमण प्रकरण की सुनवाई की गई थी। बेदखली आदेश भी जारी किया गया था, लेकिन इसके बावजूद अतिक्रमणकारी अतिक्रमण नहीं हटा रहे थे। इसके बाद एसडीएम श्री सिंह द्वारा अतिक्रमणकारियों को समझाइश दी गई और उनके गांव में मौजूद अन्य मकानों में सामान शिफ्ट कराकर अवैध तरीके से निर्मित मकानों को तोडऩे की कार्रवाई की गई।

यहां कब होगी कार्रवाई

केवलारी तहसील में विगत एक वर्ष में कई जगह कार्रवाई करते हुए शासकीय जमीनों को कब्जामुक्त कराया गया है, लेकिन जिला मुख्यालय में कार्रवाई करने में पुलिस व प्रशासन के पसीने छूट रहे हैं। नजूल की कई जमीनों पर अवैध निर्माण कर लिए गए हैं। दलसागर किनारे व्यावसायिक इस्तेमाल तक हो रहा है। उत्कृष्ट विद्यालय में अवैध निर्माणों के कारण हॉस्टल का निर्माण नहीं हो पा रहा है। इसके बावजूद कार्रवाई नहीं की जा रही है। केवलारी तहसील क्षेत्र के पांडिया छपारा, भोरगोंदी,उगली व कंचनवाड़ा सहित अन्य ग्रामों में भी कई अतिक्रमण है