कामठी: समस्याओं के निराकरण के लिए उपजिला अस्पताल के सामने प्रदर्शन, 2 मार्च को होगी बैठक

March 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, कामठी/कन्हान. शहर के उपजिला अस्पताल को 100 बेड का दर्जा प्राप्त है, लेकिन यहां नागरिकों को किसी भी प्रकार की सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। साथ ही यहां प्रसूति के लिए आने वाली महिलाओं के रिश्तेदारों से आर्थिक लूट का मामला भी हाल में सामने आया था। इस संबंध में महिला वैद्यकीय अधिकारी डा. शीतल गजघाटे को निलंबित करने की मांग को लेकर विधायक टेकचंद सावरकर की उपस्थिति में नागरिकों ने स्वास्थ्य प्रशासन के कुप्रबंधन की शिकायत पढ़कर सुनाई थी। जिस पर 15 दिनों के भीतर कार्रवाई करने का आश्वासन विधायक टेकचंद सावरकर ने दिया था। आज एक महीना होने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई। जिसको लेकर सोमवार की दोपहर पीपल्स रिपब्लिकन पार्टी, वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया, राष्ट्रीय मजदूर सेना व कामठी महिला संघ के संयुक्त तत्वावधान में उपजिला अस्पताल के विरोध में आंदोलन किया गया।

आंदोलन में महिला रोग विशेषज्ञ डा. शीतल गजघाटे को निलंबित करने, सभी बीमारियों का उपचार उपजिला अस्पताल में हो, अस्पताल में अतिदक्षता विभाग जल्द शुरू करने, उपजिला अस्पताल का नाम लोकप्रिय बाबू हरदास एलएन करने, सभी मरीजों के लिए आवश्यक औषधि अस्पताल द्वारा ही दी जाए, विशेष बीमारियों के विशेषज्ञ वैद्यकीय अधिकािरयों की नियुक्ति करने, मरीज को रेफर टू नागपुर वाली पद्धति पर प्रतिबंध लगाने आदि मांगों का समावेश था। इन मांगों का सामूहिक ज्ञापन नायब तहसीलदार बमनोटे को दिया गया। जिस पर आंदोलनकारियों को आश्वासन दिया गया कि, सभी विषयाें पर 2 मार्च को दोपहर 1 बजे उपजिला अस्पताल में विशेष बैठक का आयोजन कर उस समस्या पर निर्णय लिया जाएगा। आंदोलन का नेतृत्व विजय पाटील, अनावरूल हक पटेल, विद्या भिमटे ने किया। आंदोलन में मजहर इमाम, प्रा. दुर्योधन मेश्राम, अर्चना सोमकुवर, शीतल बरबटे, अफजल करिमी, मो. शाहिद अजमल, तलत हकीम, शहजाद पटेल सहित पीपल्स रिपब्लिकन पार्टी, वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया, राष्ट्रीय मजदूर सेना, कामठी महिला संघ के सभी पदाधिकारी व नागरिकगण उपस्थित थे।