घटना : जेल के बाथरूम में गिरने से घायल हुए पूर्व गृहमंत्री देशमुख, जेजे अस्पताल में चल रहा इलाज  

April 4th, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख को कंधे की चोट के बाद मुंबई के जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मनी लांडरिंग मामले में ऑर्थररोड जेल में बंद देशमुख शनिवार को बाथरूम में पैर फिसलने के चलते गिर गए थे जिसके चलते उनके कंधे में चोट लगी है। सूत्रों के मुताबिक इसी सेल में बंद राज्य सरकार के मंत्री नवाब मलिक को देशमुख के गिरने की जानकारी मिली तो वे भी मदद के लिए पहुंचे। शुक्रवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने सीबीआई के आवेदन के आधार पर देशमुख, उनके निजी सचिव रहे संजीव पलांडे, निजी सहायक रहे कुंदन शिंदे और बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाझे को भ्रष्टाचार के मामले में पूछताछ के लिए हिरासत में लेने की इजाजत दी थी। लेकिन शनिवार को देशमुख अस्पताल में भर्ती हो गए। जेजे अस्पताल की डीन डॉक्टर पल्लवी सापले ने बताया कि देशमुख को शनिवार को ऑर्थोपेडिक (हड्डीरोग) विभाग में भर्ती कराया गया है। उनकी जांच की जा रही है। रिपोर्ट आने के बाद परेशानी के बारे में जानकारी मिलेगी। रिपोर्ट के आधार पर आगे के इलाज के बारे में फैसला किया जाएगा। 

सीबीआई की हिरासत में पलांडे, शिंदे व वाझे  

वहीं सीबीआई ने सोमवार को तलोजा जेल में बंद पलांडे, शिंदे और वाझे को भ्रष्टाचार के मामले में पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया। कागजी कार्यवाही पूरी करने के बाद तीनों को मुंबई स्थित सीबीआई ऑफिस में ले जाया गया। देशमुख को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद हिरासत में लिया जाएगा। बता दें कि मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने आरोप लगाया था कि तत्कालीन गृहमंत्री और दूसरे पुलिसवालों से मुंबई के बार, पब, रेस्त्रां से हर महीने 100 करोड़ रुपए की जबरन उगाही कराते हैं। हाईकोर्ट के आदेश के आधार पर सीबीआई ने प्राथमिक जांच के बाद देशमुख और दूसरे आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इसी मामले में ईडी ने मनी लांडरिंग का मामला दर्ज कर चारों आरोपियों को गिरफ्तार किया है।      

पूछताछ के लिए दिल्ली ले जाने की इजाजत नहीं

तलोजा जेल से हिरासत में लेने के बाद सीबीआई ने पूर्व गृहमंत्री देशमुख के निजी सचिव रहे संजीव पलांडे, निजी सहायक रहे कुंदन शिंदे और बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाझे को विशेष अदालत में पेश किया। सीबीआई ने ट्रांजिट रिमांड की अर्जी दी थी और तीनों को पूछताछ के लिए दिल्ली ले जाना चाहती थी लेकिन अदालत ने यह अर्जी खारिज कर दी। अदालत ने तीनों को 10 दिन तक के लिए सीबीआई हिरासत में भेज दिया है। लेकिन जांच एजेंसी को तीनों से मुंबई में ही पूछताछ करनी होगी। 

   
 

खबरें और भी हैं...