comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

चुनाव आयोग की पाबंदी के बावजूद जाति-धर्म के नाम पर वोट मांगने का खेल

चुनाव आयोग की पाबंदी के बावजूद जाति-धर्म के नाम पर वोट मांगने का खेल

डिजिटल डेस्क, मुंबई।  देश में चुनाव का धर्म-जाति, भाषा व प्रांतवाद से गहरा नाता रहा है। टिकट बांटने से उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करने तक इसका सहारा लेना आम है। चुनाव आयोग की तमाम पाबंदियों के बावजूद चुनाव में धर्म, जाति, भाषा के नाम पर वोट मांगने का खेल नहीं रुक रहा। 

सिर्फ कानून से नहीं आएगा बदलाव
महाराष्ट्र के पूर्व चुनाव आयुक्त जेएस सहारिया कहते हैं कि मतदान के लिए जाति,धर्म, भाषा का सहारा लेने पर रोक है, इस पर पाबंदी के लिए कानून में प्रावधान भी हैं, लेकिन इस पर वास्तव में रोक लगाने के लिए राजनीतिक दलों को सरकार के साथ मिलकर नए सिरे से आचार संहिता तैयार करनी होगी। सिर्फ कानून बना देने से काम नहीं चलेगा। वैसे भी चुनाव आचार संहिता यानी कोड ऑफ कंडक्ट कोई कानून नहीं है। 20-25 साल पहले राजनीतिक दलों के नेताओं ने सरकार के साथ मिलकर यह कोड ऑफ कंडक्ट तैयार किया था। 

ऐसे उम्मीदवारों-दलों पर लगे पाबंदी
समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अबू आसिम आजमी कहते हैं कि चुनाव में धर्म, जाति, भाषा का इस्तेमाल रुकना चाहिए। चुनाव में धर्म-जाति का इस्तेमाल करने वाले उम्मीदवार व उसकी पार्टी पर पाबंदी लगनी चाहिए। इसको लेकर जो कानून हैं, वह केवल कागजों तक सीमित हैं। मेरे पास कई ऐसी सीडी है, जिसमें लोग धर्म के नाम पर भड़काऊ भाषण दे रहे हैं। दरअसल धर्म-जाति को लेकर लोग भावनात्मक हो जाते हैं, इसलिए नेताओं को लोगों को धर्म-जाति के नाम पर बरगलना आसान होता है, पर इससे नुकसान आम जनता का ही होता है।   

 1991 में निर्वाचन रद्द हुआ था
जन प्रतिनिधित्व कानून की धारा 123 (3) के तहत बॉम्बे हाईकोर्ट ने 1990 में भाजपा के टिकट पर मुंबई की सांताक्रुज सीट से विधायक चुने गए अभिराम सिंह का निर्वाचन ‘हिंदुत्व’ और ‘हिंदू राष्ट्र’ ने नाम पर वोट मांगने के कारण रद्द कर दिया था। अभिराम सिंह ने हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। अभिराम सिंह के मामले में दिवंगत बाल ठाकरे और प्रमोद महाजन पर ‘हिंदुत्व’ और ‘हिंदू राष्ट्र’ ने नाम पर वोट मांगने का आरोप था। सुप्रीम कोर्ट ने जनवरी 2017 में इस मामले में अपना फैसला सुनाया था।

सुप्रीम कोर्ट के सात जजों की संवैधानिक पीठ ने इस फैसले में कहा था कि चुनावों में ‘धर्म, नस्ल, जाति, समुदाय या भाषा के आधार पर वोट नहीं मांगे जा सकते। यह फैसला जनप्रितिनिधि कानून की धारा 123(3) की व्याख्या करते हुए दिया गया था। इस धारा के अनुसार उक्त आधारों पर वोट मांगना ‘भ्रष्ट आचरण’ की श्रेणी में आता है और ऐसा करने पर किसी प्रत्याशी का चुनाव तक रद्द किया जा सकता है। 1990 में अभिराम सिंह के चुनाव जीतने के बाद दूसरे नंबर पर रहे कांग्रेस प्रत्याशी सीडी उमाचन ने उनके खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में एक चुनाव याचिका दाखिल की थी। याचिका में आरोप था कि अभिराम सिंह ने वोटरों से हिंदू धर्म को आधार बनाते हुए वोट मांगे थे। बॉम्बे हाईकोर्ट ने इन आरोपों को सही पाया और 1991 में अभिराम सिंह का चुनाव रद्द करने का फैसला सुना दिया था। इस फैसले को चुनौती देते हुए अभिराम सिंह सुप्रीम कोर्ट गए थे। 

कमेंट करें
ADsLe
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।