comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

गैर जरुरी वस्तुएं भी बेच रही हैं ई-कामर्स कंपनियां, एसोसिएशन ने सीएम की शिकायत

गैर जरुरी वस्तुएं भी बेच रही हैं ई-कामर्स कंपनियां, एसोसिएशन ने सीएम की शिकायत

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोरोना के चलते लगी पाबंदियों की वजह से जहां खुदरा व्यापारियों को दुकान खोलने की इजाजत नहीं मिल रही है वहीं ई-कामर्स कंपनियों के जरिए नियमों का उल्लंघन कर गैरजरूरी सामान लोगों के घरों तक पहुंचाया जा रहा है। फेडरेशन ऑफ रिटेल ट्रेडर्स एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से इसकी शिकायत की है। एसोसिएशन के अध्यक्ष विरेन शाह ने मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में लिखा है कि कुछ दिनों से एसोसिएशन के सदस्य लगातार इस बात की शिकायत कर रहे हैं कि ई-कॉमर्स के जरिए गैरजरूरी सामानों की बिक्री हो रही है जबकि उन्हें भी सिर्फ खाने-पीने की वस्तुओं की बिक्री और डिलिवरी की इजाजत है। शाह का आरोप है कि ई-कॉमर्स कंपनियां राज्य सरकार के आदेश का सरेआम उल्लंघन कर रहीं हैं। शाह ने मुख्यमंत्री से अपील की कि ई-कॉमर्स कंपनियों को भी गैरजरूरी चीजें ऑनलाइन बेंचने की इजाजत न दी जाए। शाह ने मामले में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से जल्द कार्रवाई की मांग की है। सबूत के तौर पर शाह ने एक बिल भी भेजा है। जिसमें एक जानीमानी ई-कॉमर्स कंपनी के जरिए टी-शर्ट मंगाया गया है।

शाह ने कहा कि फिलहाल अत्यावश्यक सामान बेंचने वाले खुदरा दुकानदारों को सुबह 7 बजे से 11 बजे तक ही दुकान खोलने की इजाजत है। दूसरे सामान बेंचने वालों के लिए दुकाने एक महीने बंद रखने को कहा गया है। हमारे सामान दुकानों और गोदामों में बंद पड़े हैं जबकि ई-कॉमर्स के जरिए लोगों को गैरजरूरी सामान पहुंचाए जा रहे हैं। अगर यही हाल रहा तो राज्य का खुदरा व्यापारी खत्म हो जाएगा। सरकार को हमारी परेशानी समझनी पड़ेगी। अगर खुदरा दुकानदारों को दुकान खोलने की इजाजत नहीं है तो ई-कॉमर्स के जरिए भी गैरजरूरी चीजें बेंचने की इजाजत नहीं होनी चाहिए। शाह ने कहा कि हमें उम्मीद है कि शिकायत के आधार पर नियमों का उल्लंघन करने वाली ई-कॉमर्स कंपनी पर सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी और उन्हें भी संचारबंदी के दौरान गैरजरूरी सामान बेंचने की इजाजत नहीं देगी।

कमेंट करें
n8dre