comScore

शहर में फैला है विद्युत तारों का जाल, फंसी पतंग या मांजा न निकालना हो सकता है खतरनाक

शहर में फैला है विद्युत तारों का जाल, फंसी पतंग या मांजा न निकालना हो सकता है खतरनाक

डिजिटल डेस्क, नागपुर। महावितरण ने पतंग उड़ाते समय सावधानी बरतने की अपील पतंगप्रेमियों से की है। शहर में अधिकांश क्षेत्रों में बिजली के तारों का जाल फैला हुआ रहता है। लघु व उच्च दाब की लाइनें हैं। बहुत बार पतंग उड़ाते समय या कटी पतंग बिजली के तारों पर अटकती हैं।  बिजली के तारों पर लटकी पतंग निकालने के लिए लकड़ी, बांस, सलाखें, गिरगोट आदि का सहारा लिया जाता है और यह जानलेवा साबित हो सकता है। बिजली के खंभों या तारों से पतंग या मांजा निकालना खतरनाक साबित होता है। बिजली के तारों से हमेशा दूर रहना चाहिए। 

पैरेंट्स रखें पूरा ध्यान
बहुत बार पतंग का मांजा नीचे जमीन पर पड़ा रहता है। धातु मिश्रित मांजा या नायलान मांजे का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करना चाहिए। मांजा ट्रांसफार्मर या तार के संपर्क में आकर विद्युत प्रवाहित होने का खतरा बना रहता है। दुर्घटना न हो, इसका ख्याल सभी ने रखने की जरूरत है। पालकों ने भी विशेषकर पतंग उड़ाने या पतंग लूटने वाले बच्चों पर ध्यान देना चाहिए। बिजली के तारों के झुंड जिस परिसर में है, वहां पतंग उड़ाने से बचना चाहिए।

बाइक से गिरकर घायल हुई महिला की मौत
ज्ञानदीप नगर निवासी प्रतिभा भुनेश्वर पांडे (61) बेटे के साथ रामदासपेठ गई थी। दोपहर करीब पौने दो बजे घर लौटी। घर के सामने मोटरसाइकिल से उतरते वक्त सिर के बल गिर पड़ीं।  उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। एमआईडीसी थाने में आकस्मिक मृत्यु का प्रकरण दर्ज िकया गया है। 

आचार्यप्रवर ने कहा माता उमिया ही अंबा माता हैं। एक नाम इनका चामुंडा, दूसरा कुसमुंडा, कलियुग में नवदुर्गा माता, सब सुखदाता, अन्नपूर्णा, तुम कहलावे, काशी में शिव के संग बिराजे, हरिद्वार में मात बिराजे, मां उमिया का स्मरण जो नित्य करता हैं उसका जीवन धन्य हो जाता हैं। महिलाओं की व्यवस्था में महिला मंडल का विशेष सहयोग रहा। कार्तिकेय कुमार स्वामी, लम्बोदराय गणेश तथा जगत जननी माता दुर्गा का प्रागट्य दिवस  धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर मां उमिया प्राकट्य कथा को सफल बनाने के लिए पाटीदार समाज, पाटीदार युवक मंडल, पाटीदार महिला मंडल एवं मां उमिया प्रागट्य कथा आयोजन समिति के सभी कार्यकर्ता कार्यरत थे।
 

कमेंट करें
0VUl5