हर स्तर पर विरोध करेंगे विभिन्न संगठन: नहीं बढऩे देंगे बिजली के दाम, जनसुनवाई का होगा बहिष्कार

March 2nd, 2022

डिजिटल डेस्क जबलपुर। कोरोना से संकट में फँसे लोगों के लिए बिजली बढ़ोत्तरी एक नई समस्या पैदा कर सकती है, ऐसे समय में यह क्रूरतापूर्ण कदम नहीं उठाना चाहिए। वैसे भी प्रदेश में बिजली के दाम सबसे अधिक हैं, ऐसे में 8.7 फीसदी की बढ़ोत्तरी से उपभोक्ताओं की कमर टूट जाएगी। सबसे चौंकाने वाली बात तो यह है िक बिजली कम्पनी सबसे अधिक वृद्धि आम उपभोक्ताओं और िकसानों की बिजली पर करने वाली है। बिजली कम्पनी की मनमानी नहीं चलने दी जाएगी और हर स्तर पर विरोध करते हुए जनसुनवाई का भी बहिष्कार किया जाएगा।
उपरोक्त आरोप लगाते हुए विभिन्न संगठनों ने बुधवार को घंटाघर के पास विरोध प्रदर्शन किया और मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन के माध्यम से ज्ञापन प्रेषित िकया गया। नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच के डॉ. पीजी नाजपांडे ने बताया िक बिजली कम्पनियों द्वारा बिजली के दामों में करीब 9 फीसदी की बढ़ोत्तरी की जा रही है और इसके िलए नियामक आयोग की जनसुनवाई 8 से 10 मार्च के दौरान है। कोरोना से लोगों को भारी नुकसान हुआ और अभी भी लोग इस बीमारी से जूझ रहे हैं ऐसे में दाम नहीं बढऩे चाहिए। प्रदर्शन में मनीष शर्मा, एसके मिश्रा, आरएस तिवारी, डीके सिंह, सुशीला कनौजिया, माया कुशवाहा, कुँवर सिंह, जुगराज पटेल आदि उपस्थित थे।