दैनिक भास्कर हिंदी: काम से हटाने के कारण कर्मचारी ने लगाई फांसी , सुसाइड नोट बरामद

September 23rd, 2019

डिजिटल डेस्क,नागपुर। नौकरी से हटाने के कारण एक कर्मचारी ने आत्महत्या कर ली। इसके लिए वाइन शॉप के मालिक और प्रबंधक को जिम्मेदार ठहराया जा रहा  है। रविवार की देर रात दोनों के खिलाफ कमलना थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नही हुई है,लेकिन उन्हें बहुत जल्द गिरफ्तार करने का दावा पुलिस सूत्रों ने किया है।

जानकारी के अनुसार नेताजी नगर निवासी अतुल प्रभाकर ठवरे (29) बर्डी स्थित मधुर नामक वाइन शॉप में काम करता था। 19 मई 2019 को छोटे भाई की शादी होने के कारण अतुल ने चार दिन की छुट्टी ली थी। छुट्टियां खत्म होने के बाद जब अतुल वापस अपने काम पर गया तो वाइन शॉप का प्रबंधक शेखर सोनकुसरे ने अतुल को काम पर आने से मना कर दिया। उसे नौकरी से हटा दिया। इस संबंध ने अतुल ने वाइन शॉप के मालिक विशाल जयस्वाल से भी बात की,लेकिन उन्होंने  भी दोबारा नौकरी पर रखने से मना किया। अचानक नौकरी से हटाए जाने के कारन अतुल को अपने परिवार के भरन पोषण की चिंता सताने लगी। जब तक नई नौकरी मिलती नही तब तक घर खर्च कैसे चलाया जाए यह चिंता अतुल को खाए जा रही थी,हांलाकि नई नौकरी की तलाश में उसने कई जगह हाथ पैर मारे,लेकिन काम नही मिला। मिला भी तो वेतन  काफी कम था। इतने कम खर्चे में परिवार को पालना मुश्किल था।

नौकरी जाने से आर्थिक तंगी से घिरे अतुल ने आखिरकार 20 अगस्त 2019 की अपरान्ह करीब साढ़े चार बजे छत में लगे लोहे के ऐंगल को रस्सी बांधकर फांसी लगाई। जिससे उसकी मौत हो गई। घटित प्रकरण से परिवार में हड़कंप मचा  गया। इस बीच अतुल की पत्नी मनीषा (27 वर्ष) ने मामले की सूचना संबंधित कलमना थाने को दी। उपनिरीक्षक जाधव सह दल-बल मौके पर पहुंचे। आवश्यक कार्रवाई कर प्रकरण को आकस्मिक मृत्यु के तौर पर दर्ज किया गया। जांच के दौरान पुलिस के हाथ अतुल का लिखा हुआ सुसाइड़ नोट हाथ लगा। जिसमें नौकरी से हटाए जाने के कारण परिवार पर आई आर्थिक तंगी से आत्महत्या करने का उल्लेख  किया था। इस सब के लिए उसने वाइन शॉप के मालिक विशान जयस्वाल और प्रबंधक शेखर सोनकुसरे को जिम्मेदार ठहराया है। बरामद सुसाइड़ नोट से पुलिस ने भी अतुल की मौत के लिए उक्त आरोपियों की जिम्मेदार ठहराया है। जिससे शनिवार की रात दोनों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। कलमना थाने के वरिष्ठ थानाप्रभारी विश्वनाथ चव्हाण ने बताया कि अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी नही हुई है,लेकिन उन्हें बहुत जल्द गिरफ्तार करने का दावा किया है। जांच जारी है।