comScore

लॉकडाउन में भी सीएम हैल्पलाइन में शिकायतों का आँकड़ा 7 हजार के पार

लॉकडाउन में भी सीएम हैल्पलाइन में शिकायतों का आँकड़ा 7 हजार के पार

डिजिटल डेस्क जबलपुर । लॉकडाउन में जब सब कुछ बंद था तब भी लोगों को प्रशासन की कार्यप्रणाली से जमकर शिकायतें रहीं। लॉकडाउन के दौरान करीब 7 हजार लोगों द्वारा अपनी समस्याओं के निराकरण के लिये 132 विभागों की शिकायतें सीएम हैल्पलाइन में की गईं। आँकड़े बताते हैं कि लोगों को सबसे ज्यादा नाराजगी खाद्य विभाग की कार्यप्रणाली से रही। खाद्य वितरण में गड़बड़ी को लेकर करीब 978 लोगों ने सीधे सीएम हैल्पलाइन में शिकायत  की। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली को लेकर भी लोग नाखुश नजर आए। कोरोना संक्रमण के दौरान सामान्य स्वास्थ्य सेवाएँ प्रभावित होने से लोगों को सही उपचार नहीं मिल पाया और उन्होंने सीधे प्रदेश के मुखिया को शिकायतें भेजीं। जिले से करीब   894 लोगों ने स्वास्थ्य संबंधी शिकायतें कीं।
इसके साथ ही बिजली विभाग और भोजन राहत  हैल्पलाइन की शिकायतें टॉप फाइव में रहीं। खास बात यह कि इस दौरान लोग राजस्व विभाग से जुड़ी शिकायतों के मामले में भी पीछे नहीं रहे, शिकायतों के मामले में राजस्व विभाग तीसरे नम्बर पर रहा।
राशन वितरण को लेकर गड़बड़ी - लॉकडाउन के दौरान राशन वितरण को लेकर सबसे अधिक शिकायतें सामने आईं। संकट के इस दौर में प्रशासन ने राशन कार्डधारकों को तीन माह का अनाज एक साथ देने के साथ ही अन्य जरूरतमंदों को भी अनाज का मुफ्त वितरण कराया था, लेकिन इसका लाभ सही हितग्राही को मिलने की बजाय अन्य लोगों ने उठाया। गरीब और राशन कार्डधारी अनाज पाने भटकते रहे और कोटे का राशन दूसरों के हिस्से में चला गया। इस दौरान गेहूँ, चना की खरीदी को लेकर भी किसान परेशान हुए।
स्वास्थ्य सेवाओं का रोना-लॉकडाउन के दौरान बीमारों को इलाज के लिये भटकना पड़ा। जिले के पूरे स्वास्थ्य अमले को कोरोना जाँच में लगा दिया गया था इससे सामान्य स्वास्थ्य सेवाएँ काफी प्रभावित हुईं। इस दौरान निजी चिकित्सकों ने भी क्लीनिक बंद कर रखे थे और गली-मोहल्लों में प्रैक्टिस करने वालों की भी सेवाएँ नहीं मिल पा रही थीं, जिससे बीमारों को काफी परेशान होना पड़ा। परेशान लोगों ने सीधे सीएम हैल्पलाइन में शिकायत कर दी।

कमेंट करें
0bDIc