दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र के हर जिले में तैनात होंगे विशेषज्ञ डॉक्टर

June 19th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई की तर्ज पर प्रदेश के हर जिले में विशेषज्ञ डॉक्टरों के टास्क फोर्स नियुक्त करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के मरीजों को खोजने में ढिलाई नहीं बरती जानी चाहिए। शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने राज्य के विभागीय आयुक्त, जिलाधिकारी, मनपा आयुक्त के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना महामारी को लेकर समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना के मरीजों की संख्या दोगुनी होने की गति को रोकने में कामयाबी मिली है पर मृत्यु दर बढ़ना उचित नहीं है। मुंबई में डॉक्टरों के टास्क फोर्स का अच्छा उपयोग हुआ है। अब प्रत्येक जिले अथवा विभागीय स्तर पर टास्क फोर्स बनाना जरूरी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन शिथिल होने के कारण मरीजों की संख्या कुछ जिलों में बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना की जांच रिपोर्ट जल्द दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके बावजूद कुछ जगहों पर 72 घंटे लग रहे हैं। यह गंभीर बात है। किसी भी परिस्थिति में ढिलाई नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के मरीजों की ट्रैकिंग और ट्रेसिंग के बारे में केंद्र और राज्य सरकार ने दिशानिर्देश जारी किया है। इसका पालन होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ अस्पतालों में वरिष्ठ डॉक्टर अपनी आयु और अन्य बीमारियों के कारण कोरोना के मरीजों की जांच नहीं कर रहे हैं। ऐसी जगहों पर जूनियर डॉक्टर कोरोना के मरीजों की जांच कर रहे हैं। यदि वरिष्ठ डॉक्टरों को कोरोना वाले मरीजों की अस्पताल में मौजूद रहकर जांच नहीं करनी है तो वे स्मार्ट फोन के कैमरे के माध्यम से उपचार के बारे में मार्गदर्शन कर सकते हैं। 

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्य में बारिश शुरू हो गई है। इससे दूसरी बीमारियां भी बढ़ सकती हैं। ऐसी स्थिति में गैर कोरोना मरीजों को तत्काल इलाज मिलना जरूरी है। उन्होंने कहा कि जिलों में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के डॉक्टरों को भी टास्क फोर्स के लिए मदद देना चाहिए। 

बढ़ी कोरोना मरीजों के दोगुनी होने की रफ्तार

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ प्रदीप व्यास ने बताया कि राज्य में कोरोना के मरीजों की संख्या दोगुनी होने की दर 21.3 दिन से बढ़कर 23.1 दिन हो गया है। मरीजों की ठीक होने यानि रिकवरी दर 50.4 प्रतिशत है। जबकि देशभर में रिकवरी दर 53.8 है। वहीं मृत्यु दर 3.7 प्रतिशत से 4.8 प्रतिशत हो गया है। व्यास ने कहा कि जहां पर प्रत्येक मरीज के 10 से कम संपर्क खोजे जा रहे हैं वहां पर संक्रमण का प्रसार ज्यादा हो रहा है। 


 

खबरें और भी हैं...