comScore

पिता ने कहा - आंख कमजोर होने से ठीक से नहीं देख सका शव, अस्पताल में लापरवाही का मामला

पिता ने कहा - आंख कमजोर होने से ठीक से नहीं देख सका शव, अस्पताल में लापरवाही का मामला

डिजिटल डेस्क, मुंबई। नई मुंबई के मनपा अस्पताल में गलत शव देने के मामले में नया खुलासा हुआ है। शव लड़की के पिता को सौपने वाले कर्मचारी के मुताबिक उसने लड़की के पिता को शव का चेहरा दिखाया था और पुष्टि के बाद ही शव परिवार के हवाले किया था। वहीं लड़की के पिता भूषण सूर्यवंशी ने भी इसे स्वीकार किया है और कहा कि शव गृह में अंधेरा था। उसकी आँखों की रोशनी ठीक नहीं है।इसलिए उससे पहचानने में गलती हो गई। वही यह भी कहा जा रहा है कि शव डॉक्टरों द्वारा गलत नंबर लगाया गया था, इसके चलते यह गड़बड़ी हुई। 

युवक के घर वाले भी शव सौंपने वाले सफाई कर्मचारियों के बजाय पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर और संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग कर रहे है। शव गृह से परिवार वालों को शव देने वाले सफाई कर्मचारी ने बताया कि 14 मई की शाम को मृतक लड़की के परिवार वाले मृत्यु प्रमाणपत्र लेकर आए थे। उन्हें शवगृह के 11 नंबर पेटी से शव की पहचान कराई। इसके बाद शव उनके हवाले कर दिया। इसके साथ ही जो नंबर उनके पास था वही शव दिया है। इसमें मेरी कोई गलती नहीं है।

बिना कारण हमें फंसाया जा रहा है। लड़की के पिता भूषण सूर्यवंशी ने कहा कि मुझे दिखाई कम देता है। अंदर अंधेरा होने के साथ ही शव का सिर्फ चेहरा थोड़ा सा दिखाया गया। उस पेटी में जब शव रखने गया था तो सिर्फ मेरी बेटी का शव था। लेकिन जब लेने गया था तो उस समय दो शव पड़े थे इसके कारण गलतफहमी हो गई। अभी मेरी बेटी का शव अस्पताल में ही है पुलिस ने दो दिन रुकने को कहा है उसके बाद शव हमारे हवाले करेंगे।

क्या है मामला

मनपा अस्पताल के शवगृह में रखे काजल सूर्यवंशी के शव की जगह उसके परिवार वालों को उमर शेख नाम के शख्स का शव सौंप दिया गया। काजल के परिवार वालों ने प्लास्टिक में लिपटा शव खोले बिना दाह संस्कार कर दिया। शेख के रिश्तेदार उसका शव लेने आये तो शव नहीं मिला। इसके बाद सीसीटीवी की जांच में मामले का खुलासा हुआ।

असमंजस में पुलिस

शेख के परिवार वालों की शिकायत के बाद वाशी पुलिस भी भ्रम में है कि आखिर किसके खिलाफ और क्या मामला दर्ज किया जाए। वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक संजीव धूमल ने बताया कि गलती किसकी तरफ से हुई है इसकी जांच की जा रही है। अस्पताल के तरफ से बयान दर्ज किया गया जा रहा है। छानबीन कर एफआईआर दर्ज की जाएगी। 

कमेंट करें
TYora