दैनिक भास्कर हिंदी: आयुर्वेद के नाम पर बेची जा रही फर्जी दवाओं के खिलाफ एफडीए का अभियान शुरु 

July 26th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मोटापा कम करने, लंबाई बढ़ाने, डाइबिटीज, अस्थमा, रक्तचाप, यौन शक्ति और पुरुषों के जननांग बढ़ाने जैसे भ्रामक दावों के साथ बेची जाने वाली फर्जी आयुर्वेदिक और होमियोपैथिक दवाओं के खिलाफ अन्न व औषधि प्रशासन (एफडीए) ने राज्यस्तरीय मुहिम चलाई है। पिछले दो महीने में अखबारों और टेलिवीजन के जरिए इन दवाओं का विज्ञापन करने वाले 167 दवा उत्पादकों को एफडीए ने नोटिस जारी किया है। इसके अलावा 33 जगहों पर छापेमारी कर 20 लाख रुपए से ज्यादा की फर्जी दवाएं जब्त की गईं हैं। 

एफडीए के एक अधिकारी ने बताया कि झूठे दावों वाले विज्ञापन देने के मामलों में ड्रग्स एंड मैजिक रेमिडीज एक्ट के मुताबिक कार्रवाई की जा रही है। नियमों के मुताबिक इंसानों की यौन क्षमता बढ़ाने, लंबाई बढ़ाने, डायबिटीज, मोटापा, रक्तचाप, अस्थमा, महिलाओं से जुड़ी बीमारियों के साथ पुरुष जननांगों की लंबाई बढ़ाने का दावा करने वाले विज्ञापनों पर पाबंदी है। ऐसे विज्ञापन देखने के बाद कई लोग डॉक्टर की सलाह लिए बिना खुद इसका सेवन करने लगते हैं। यह स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक हो सकता है। विज्ञापनदाता, उत्पादकों के साथ-साथ आपत्तिजनक विज्ञापन दिखाने वाले टीवी चैनलों को भी नोटिस जारी किया गया है। एफडीए ने लोगों से भी अपील की है कि वे इस तरह के झूठे दावों और भ्रामक विज्ञापनों पर भरोसा न करें और इसे देखने पर एफडीए से मामले की शिकायत करें।       

खबरें और भी हैं...