दैनिक भास्कर हिंदी: वेबसाइट व ई-मेल बनाने के नाम पर फ्रॉड, मुंबई के आरोपियों ने की 5 करोड़ की ठगी

May 24th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर की एक कंपनी मालिक के साथ 5 करोड़ रुपए की ठगी किए जाने का मामला सामने आया है। कंपनी मालिक अशोक कुमार श्रीकिशन अग्रवाल के साथ उनकी कंपनी के मुंबई स्थित कार्यालय में कार्यरत आरोपी दीनाकृष्णा दास (35) मुंबई वाशी, नीरव हीरालाल संघवी (40) घाटकोपर मुंबई निवासी ने आरोपी मिलिंद फायक्रिएटिव सोल्यूशन प्रा. लिमिटेड मुंबई के साथ मिलकर यह धोखाधड़ी की है। उनकी कंपनी में दीनाकृष्णा और नीरव अधिकारी के तौर पर कार्यरत थे। वह मुंबई कार्यालय से कंपनी का कारोबार देखते थे।

जगजीवन राम नगर गरोबा मैदान निवासी अशोक कुमार अग्रवाल की कंपनी नागपुर में कंघी और हेयर ब्रश बनाती है। उन्होंने आरोपी दीनाकृष्णा के मार्फत मिलिंद फायक्रियेटिव सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड मुंबई निवासी को अपनी कंपनी की वेबसाइट व ई-मेल बनाने के लिए लाखों रुपए दिए ऐ। आरोपियों ने उनकी कंपनी की वेबसाइट व ई-मेल बनाने के बजाय खुद की कंपनी शुरू कर दी और उन्हें ही धमकाने लगे।

वेबसाइट व ई-मेल बनाने के लिए दिए थे 10 लाख 28 हजार रुपए
पुलिस के अनुसार अशोक कुमार श्रीकिसन अग्रवाल ने अपनी कंपनी के अधिकारी दीनादास, नीरव संघवी व मिलिंद फायक्रियेटिव सोल्यूशन प्रा.लि. मुंबई  के खिलाफ लकड़गंज थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है। उन्होंने पुलिस को बताया कि आरोपियों ने पहले उनकी कंपनी की वेबसाइट व ई-मेल तैयार करने के लिए उनसे 10.28 लाख रुपए लिए थे। यह रकम उन्होंने एनईएफटी पद्धति से ऑनलाइन ट्रांसफर किया था। उसके बाद दोनों आरोपियों ने अपनी कंपनी शुरू कर दी। आरोपियों ने उनकी कंपनी का डिजिटल पासवर्ड का उपयोग उन्हें बिना बताए करना शुरू कर दिया।

आरोपियों की करतूत पता चलने तक दोनों आरोपी उन्हें करीब 5 करोड़ रुपए का चूना लगा चुके थे। अशोक कुमार अग्रवाल ने पुलिस को बताया कि उनकी कंपनी का  कापसी में कारखाना है, लेकिन कंपनी का मुंबई में  आफिस प्लाॅट नं. 118, रीना काॅम्प्लेक्स, रामदेव नगर रोड, घाटकोपर में है। यहां के कार्यालय का कार्य  दीनाकृष्णा दास और नीरव हीरालाल संघवी करते थे। अशाेक कुमार काे अपना व्यवसाय आगे बढ़ाने के लिए वेबसाइट व मेल आईडी बनानी थी। उन्होंने दीनादास के मार्फत आरोपी  मिलिंद फायक्रियेटिव सोल्यूशन प्रा.लि. मुंबई को आर्डर दिया था। इसके बदले में उन्होंने  10 लाख 28 हजार 977 रुपए एनईएफटी द्वारा  पेमेंट किया था। 

कंपनी के माल की बिक्री कम होने पर हुआ शक 
अशाेक कुमार ने पुलिस को  बताया कि 1 से 31 दिसंबर  2017 के दरम्यान उनकी कंपनी के माल की बाजार में मांग कम होने लगी। बाजार से  बिल की रकम मिलने में देरी होने लगी।  तब उन्हें कुछ शक हुआ। उन्होंने कंपनी के अधिकारी दीनादास से इस बारे में पूछा, तो उसने कहा कि मार्केट में मंदी है, इस कारण माल की मांग कम हो गई है। बाजार में छानबीन करने पर पता चला कि दीनादास और नीरव संघवी ने अशोक कुमार के पैसे से अपनी बीयर ब्यूटी एसेसरीज प्रा. लि. नामक कंपनी शुरू कर दी है।

इस कंपनी का पता प्लाॅट नं. 118, रीना काॅम्प्लेक्स रामदेव नगर घाटकोपर पश्चिम ही रखा है। उन्होंने अपनी कंपनी की वेबसाइट भी अशोक कुमार की कंपनी के नाम पर बनारखी थी। जब अशोक कुमार ने अपनी कंपनी की  वेबसाइट ओपन किया तो आरोपियों की कंपनी की  वेबसाइट ओपन हो रही थी। अशोक ने दीनादास से इस बारे में पूछा, तो उसने उन्हें धमकी दी कि सब कुछ भूल जाओ। यह  व्यवसाय मेरा है। इस तरह अशोक कुमार की कंपनी के साथ करीब 5 करोड रुपए की धोखाधड़ी की। अशोक कुमार की शिकायत पर लकड़गंज थाने में मामला दर्ज किया गया है।