दैनिक भास्कर हिंदी: चुनावी अखाड़ा में जमकर हंगामा, आपे से बाहर हुई जनता, कुर्सी फेंककर माइक भी तोड़ा

October 14th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य में इन दिनों चुनावी माहौल बना हुआ है। प्रचार के दौरान आरोप-प्रत्यारोप लगातार जारी है।  विधानसभा चुनाव में विविध मुद्दों पर बहस कराने आयोजित एक कार्यक्रम में  जमकर बवाल मचा। क्षेत्र में समस्याओं को लेकर जनता ने भाजपा के प्रतिनिधि व नगरसेवक दयाशंकर तिवारी पर सवाल पर सवाल दागे। नगरसेवक ने जवाब देने की तैयारी भी दिखाई, लेकिन जनता संतुष्ट नहीं हुई। इससे नगरसेवक भी गुस्सा हो गए, जिसके बाद जनता ने आपा खोते हुए कुर्सियों को फेंकना शुरू कर दिया। कुछ लोगों ने मंच पर चढ़कर माइक तोड़ दिया। इस दौरान नगरसेवक से धक्का-मुक्की और गाली-गलौज भी की गई।

कई पार्टियों के प्रतिनिधि पहुंचे 

मध्य नागपुर निर्वाचन क्षेत्र के जलालपुरा इलाके में  वार्ड समस्या निवारण समिति द्वारा चुनावी बहस का कार्यक्रम ‘चुनावी अखाड़ा’ आयोजित किया गया था, जिसमें सभी प्रमुख पार्टियों के प्रतिनिधि या उम्मीदवार उपस्थित थे। भाजपा से नगरसेवक दयाशंकर तिवारी, कांग्रेस उम्मीदवार बंटी शेलके तथा बसपा, वंचित बहुजन आघाडी, एमआईएम के उम्मीदवार व प्रतिनिधियों ने चर्चा में हिस्सा लिया। सभी उम्मीदवारों को पहले अपनी भूमिका रखने का मौका दिया गया। जनता ने क्षेत्र की विविध समस्याओं को लेकर सवाल उठाए। पहले तो कांग्रेस नगरसेवक व उम्मीदवार बंटी शेलके करीब पौन घंटे अपनी भूमिका रखते हुए संघ और भाजपा के खिलाफ तीखे हमले बोले। इस पर भाजपा समर्थक नाराज हो गए। बंटी शेलके द्वारा कुछ वर्ष पहले आरएसएस का हाफ-पैंट जलाने पर भाजपा समर्थकों ने उन्हें राष्ट्रवादी विरोधी कहते हुए माहौल को गर्माने की कोशिश की। इससे नाराज होकर बंटी शेलके पहले ही वहां से निकल गए। 

तीखे सवाल किए गए

भाजपा की ओर से दयाशंकर तिवारी ने जवाब देने की कोशिश की। इस बीच कुछ अन्य पार्टी के प्रतिनिधि भी वहां से एक-एक कर चलते बने। नगरसेवक दयांशकर तिवारी समेत कुछ मंच पर डटे रहे। तिवारी ने बोलना शुरू किया था कि उन्हें बीच में रोककर जनता के सवालों का जवाब देने को कहा गया। इसे लेकर जमकर बवाल मचा। उपस्थित जनता ने दयाशंकर तिवारी से क्षेत्र की समस्याओं को लेकर कुछ तीखे सवाल किए। नगरसेवक ने उन्हें शांत रहकर सुनने को कहा, लेकिन जनता श्री तिवारी पर हावी हो गई। इससे श्री तिवारी भी नाराज हो गए। ऐसे में उनके समर्थक और स्थानीय जनता में तू-तू, मैं-मैं की नौबत आ गई। कुछ लोगों ने वहां रखी प्लास्टिक की कुर्सियां उठाकर फेंकना शुरू कर दिया। कुछ लोग मंच पर पहुंच गए। लोगों ने दयाशंकर तिवारी को घेर लिया और धक्का-मुक्की तथा गाली-गलौज की। इस दौरान जमकर हंगामा हुआ।