दैनिक भास्कर हिंदी: सेवा क्षेत्र के माध्यम से देश की जीडीपी साल 2025 में 5 ट्रिलियन होगी- राष्ट्रपति 

May 15th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उम्मीद जताई है कि सेवा क्षेत्र और प्रौद्योगिकी के साथ समन्वय के माध्यम से साल 2025 तक देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 5,000 अरब डालर (5 ट्रिलियन) तक पहुंच जाएगा। इसमें सेवा क्षेत्र का योगदान 3,000 अरब डालर (तीन ट्रिलियन) तक हो सकता है। मंगलवार को राष्ट्रपति ने गोरेगांव में सेवा क्षेत्र पर आधारित चौथी वैश्विक प्रदर्शनी का उद्धाटन किया। साथ ही सेवा क्षेत्र से जुड़े 12 अव्ववल (चैंपियन) क्षेत्रों पर एक पोर्टल को लांच किया। इस मौके पर राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले चार सालों में देश की जीडीपी 6.9 प्रतिशत तक रही है। साल 2018-19 में भारत की अर्थव्यवस्था की विकास दर 7.4 प्रतिशत रहने का अनुमान है। इसमें सेवा क्षेत्र महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। 

राष्ट्रापति ने कहा कि सेवा क्षेत्र 21 वीं शताब्दी की वैश्विक अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। 12 चैंपियन क्षेत्रों की लांचिंग एक साहसिक कदम है। इससे देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी और बड़े रोजगार पैदा होंगे। साल 2016 में भारत की विश्व के सेवा क्षेत्र में निर्यात 3.4 प्रतिशत थी। लेकिन साल 2022 तक यह प्रमाण 4.2 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा। राष्ट्रपति ने कहा कि केंद्र सरकार ने स्टातर्ट-अप इंडिया और मुद्रा योजना जैसे कार्यक्रमों के जरिए जमीनी स्त्र के 120 मिलियन व्यनवसायों को आवश्यगक पूंजी मुहैया कराई है। इससे सेवा क्षेत्र में उद्यमिता की संस्कृाति का जन्म हुआ है। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों और दशकों में कुछ स्टा र्ट-अप्स  विशाल उद्यम के रूप में उभरेंगे। राष्ट्र्पति ने कहा कि पूरी दुनिया में स्टा र्ट-अप्स  का तीसरा सबसे बड़ा केंद्र भारत को माना जाता है। इसके माध्यम से युवा उद्यमियों की एक पीढ़ी उभर कर सामने आई है। 

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि आर्थिक वृद्धि और रोजगार पैदा करने के लिए सेवा क्षेत्र की भूमिका अहम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब साल 2025 तक देश की अर्थव्यवस्था 5 ट्रिलियन डॉलर होगी। तब उस समय महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्था 1 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगी।