दैनिक भास्कर हिंदी: राज्य में शुरू किए जाएंगे सरकारी होम्योपैथिक महाविद्यालय- अमित देशमुख

January 28th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री अमित देशमुख ने कहा कि राज्य में सरकारी होम्योपैथिक महाविद्यालय शुरू किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में फिलहाल 54 होम्योपैथिक महाविद्यालय हैं लेकिन सभी होम्योपैथिक महाविद्यालय निजी हैं। इसलिए राज्य में सरकारी होम्योपैथिक महाविद्यालय शुरू करने के लिए सरकार सकारात्मक है। मंगलवार को देशमुख ने महाराष्ट्र काउंसिल ऑफ होम्योपैथिक की ओर से दी जाने वाले डॉ.हैनिमैन जीवन गौरव पुरस्कार वितरित किया। देशमुख ने कहा कि आगामी समय में होम्योपैथिक में उत्कृष्ट सेवा देने वालों को चिकित्सा शिक्षा विभाग की ओर से सम्मानित किया जाएगा। होम्योपैथिक विद्यार्थी, प्राचार्य, डॉक्टर और शोधकर्ताओं को उल्लेखनीय काम के लिए गौरव किया जाएगा। देशमुख ने कहा कि होम्योपैथिक डॉक्टरों को सरकारी सेवा मिलने के लिए सकारात्मक विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले कई सालों में होम्योपैथिक औषधि प्रणाली का विश्वभर में प्रसार हुआ है। यूरोप और अमेरिका जैसे विकसित देशों में लोग होम्योपैथिक के इलाज की ओर आकर्षित हो रहे हैं। होम्योपैथिक का केवल असर होता है इसका साइड इफेक्ट नहीं होता है। देशमुख ने कहा कि महाराष्ट्र में होम्योपैथिक पर शोध आवश्यक है। 

विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में राष्ट्रगीत से होगी कार्यक्रमों की शुरुआत 

प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों के सार्वजनिक कार्यक्रमों की शुरुआत राष्ट्रगीत से होगी। राज्य सरकार इस बारे मंय फैसला लेगी। मंगलवार को प्रदेश के उच्च व तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने यह जानकारी दी। एलफिन्स्टन महाविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में सामंत ने कहा कि सिनेमा घरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगीत होता है। देश के लिए कइयों ने बलिदान दिया है। विद्यार्थियों में देश भक्ति की भावना पैदा करने के लिए सभी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में होने वाले सार्वजनिक कार्यक्रमों की शुरुआत राष्ट्रगीत से होनी चाहिए। सामंत ने कहा कि सभी महाविद्यालयों का नाम मराठी भाषा में लिखा हुआ होना चाहिए। इस बारे में महाविद्यालयों को निर्देश दिए जाएंगे। 

 

खबरें और भी हैं...