comScore

एमपीईबी में काम करने वाली स्टेप कंपनी ने की करोड़ों की जीएसटी चोरी - एंटी इवेजन ब्यूरो ने कसा शिकंजा , सवा करोड़ वसूले

एमपीईबी में काम करने वाली स्टेप कंपनी ने की करोड़ों की जीएसटी चोरी - एंटी इवेजन ब्यूरो ने कसा शिकंजा , सवा करोड़ वसूले

डिजिटल डेस्क जबलपुर । मप्र पूर्व क्षेत्रीय विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड को माल एवं सेवा की सप्लाई करने वाली स्टेप कंपनी पर स्टेट जीएसटी की एंटी इवजेन ब्यूरो ने शिकंजा कसते हुए करोड़ों की टैक्स चोरी उजागर की है। सोमवार को एंटी इवेजन ब्यूरो की तीन अलग-अलग टीमों ने जबलपुर के नयागाँव स्थित कंपनी के दफ्तर, रिछाई में स्टोर और शहडोल स्थित घर में छापा मारा। तीनों जगह सुबह से शाम तक दस्तावेजों की जाँच में पाया गया कि कंपनी संचालकों द्वारा विद्युत वितरण कंपनी को जो उपकरण सप्लाई किए जाते थे उनकी वास्तविक कीमत को जीएसटी रिटन्र्स में कम दर्शाया जाता था। शुरूआती पड़ताल के बाद स्टेट जीएसटी ने कंपनी से एक करोड़ 25 लाख रुपए वसूले। जाँच दलों ने स्टेप कंपनी द्वारा अब तक किए गए सभी कार्यों से जुड़े दस्तावेज जब्त कर लिए हैं, अनुमान है कि जाँच के बाद टैक्स चोरी का आँकड़ा करोड़ों में पहुँचेगा।  
स्टेट जीएसटी की एंटी इवेजन शाखा के संयुक्त आयुक्त सुनील मिश्रा ने बताया कि स्टेप कंपनी द्वारा  विद्युत वितरण कंपनी को ट्रांसफार्मर, तार, केबल, विद्युत पोल, फीडर, मीटर आदि की सप्लाई और इंस्टालेशन तथा रिपेयरिंग व मेंटेनेंस आदि के कार्य भी किए जाते थे। फर्म द्वारा अधिक राशि के माल और सेवा की सप्लाई की जाती थी, लेकिन अपने जीएसटीआर-38 रिटन्र्स में कम राशि की सप्लाई दर्शायी जाती थी। इस तरह फर्म द्वारा बड़े पैमाने पर जीएसटी टैक्स की चोरी की जा रही थी। श्री मिश्रा के अनुसार वाणिज्यिक कर विभाग ने फर्म द्वारा दर्शायी गई रिटन्र्स तथा विद्युत वितरण कंपनी द्वारा प्रस्तुत की गई रिटन्र्स की स्क्रूटनी की तो मामला उजागर हुआ, लिहाजा छापे की कार्रवाई की गई। फर्म के स्टॉक एवं प्रस्तुत दस्तावेजों का परीक्षण सर्च टीम द्वारा किया जा रहा है, जाँच पूर्ण होने पर टैक्स चोरी की वास्तविकता स्पष्ट हो सकेगी। इस कार्रवाई में स्टेट जीएसटी के आरके ठाकुर, राघवेंद्र सिंह, राजेश्वरी सर्राती, एसएम बागरी, अनूप भदौरिया, एसपीएस बघेल शामिल थे। 

कमेंट करें
T5qrX