दैनिक भास्कर हिंदी: बच्चे की पढ़ाई के लिए दे दी इनाम में मिली आधी रकम, रेल कर्मचारी ने पटरी से उठा बचाई थी जान- फडणवीस बोले - गर्व है  

April 22nd, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। अपनी जान पर खेलकर रेल पटरी पर गिरे छह साल के बच्चे की जिन्दगी बचाने वाले रेलवे कर्मचारी मयूर शेलके ने एक बाद फिर सबका दिल जीत लिया है। मयूर ने खुद को मिले इनाम का आधा पैसा बच्चे को उसकी पढ़ाई के लिए देने का फैसला किया है। विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस समेत हजारों लोगों ने सोशल मीडिया पर शेलके की इस दरियादिली की सराहना की है। ‘दैनिक भास्कर’ से बातचीत में मयूर ने कहा कि मुझे जानकारी मिली कि बच्चे के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं हैं। इसलिए मैंने ईनाम के तौर पर मिली रकम का आधा हिस्सा बच्चे के लालन पालन और पढ़ाई के लिए देने का फैसला किया है। बता दें कि रेलवे ने मयूर को उनकी बहादुरी के लिए 50 हजार रुपए का ईनाम दिया है। मयूर के इस कदम की सराहना करते हुए फडणवीस ने गुरूवार को ट्वीट किया और लिखा कि मयूर शेलके ने एक बार फिर लोगों को प्रेरणा दी है। इससे जुड़ी खबर ट्वीट करते हुए उन्होंने आगे लिखा है कि मयूर ने समाज को यह संदेश दिया है कि मानवता और इंसानियत के लिए अच्छे काम कहीं भी रहकर किए जा सकते हैं। मयूर हमें आप पर गर्व है। 

बता दें कि बीते17 अप्रैल की शाम को वांगनी रेलवे स्टेशन पर तैनात पाइंट्समैन शेलके ने देखा कि एक नेत्रहीन महिला के साथ जा रहा बच्चा प्लेटफॉर्म से नीचे पटरियों पर गिर पड़ा है। सामने से तेज रफ्तार से ट्रेन आ रही थी। इसके बावजूद शेलके पटरी पर कूद पड़े और ट्रेन पहुंचने के चंद सेकेंड पहले बच्चे को प्लेटफॉर्म पर पहुंचाकर खुद भी ऊपर आने में सफल रहे। इससे जुड़ा वीडियो मध्ये रेलवे और रेलमंत्री पियुष गोयल ने ट्वीट किया जिसके बाद लोगों ने शेलके की बहादुरी की खूब सराहना की। रेलवे ने उन्हें सम्मानित करने के साथ नकद ईनाम भी दिया।