दैनिक भास्कर हिंदी: पुलिस की वर्दी पर दाग : हेड कांस्टेबल बर्खास्त, इंस्पेक्टर और कांस्टेबल सस्पेंड

September 1st, 2017

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा। गौ तस्करों से मिलीभगत एवं अन्य आरोपों में दोषी पाए गए एक हेड कांस्टेबल को बर्खास्त करने के आदेश जारी किए गए हैं। इसी के साथ मामला दर्ज करने और आरोपी की गिरफ्तारी में लापरवाही करने के आरोप में परासिया TI (इंस्पेक्टर) को सस्पेंड किया गया है। इसके अलावा पत्नी द्वारा अप्राकृतिक कृत्य का आरोप लगाए जाने के बाद से फरार कांस्टेबल को भी निलंबित कर दिया गया है। तीनों मामलों को पुलिस की छवि धूमिल करने का  प्रयास मानते हुए SP गौरव तिवारी ने बड़ी कार्रवाई की है। 

हेड कांस्टेबल पर गौतस्करों से मिली भगत का आरोप

ASP नीरज सोनी ने बताया कि पुलिस ने वर्ष 2012 में पांढुर्ना क्षेत्र में गौतस्करों से मवेशी मुक्त कराए थे। इस मामले में जब कोर्ट ने पुलिस से गौवंश को प्रस्तुत करने कहा तो पकड़े गए मवेशियों से कम पेश किए गए। उस पर भी कई मवेशी ऐसे थे, जो पकड़े गए मवेशियों से अलग थे। इस बात की तस्दीक पशु चिकित्सा अधिकारी ने जांच के बाद की थी। इसी मामले में हेड कांस्टेबल समेत तात्कालिक TI बीबी शर्मा, SI आरपी गायधने और एक अन्य ASI पर कोर्ट ने एफआईआए दर्ज कराई थी। इसी मामले में जांच के बाद SP गौरव तिवारी ने हेड कांस्टेबल फूलसिंह पाल को बर्खास्त कर दिया है।

गंभीर मामले में लापरवाह TI सस्पेंड

SP ने परासिया TI को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। ASP के मुताबिक एक सप्ताह पूर्व थाने की बांउड्रीवॉल से लगे एक फल विक्रेता पर निगरानी बदमाश रिप्पी मर्सकोले ने अपने एक साथी के साथ मिलकर कट्टा अड़ाया और उगाही  करने का प्रयास किया था। इस मामले में घटना के बाद TI केके त्रिवेदी ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया और SP के निर्देश के बाद दूसरे दिन आरोपी व उसके साथी के खिलाफ मामला दर्ज किया। इस मामले में SP ने जांच के बाद थाना प्रभारी परासिया केके त्रिवेदी को निलंबित कर दिया है। खासबात यह कि मामले के आरोपी रिप्पी मर्सकोले ने गुरुवार को कोर्ट में सरेंडर कर दिया है।

एक माह से फरार कांस्टेबल सस्पेंड

पदस्थ कांस्टेबल प्रेमलाल पिछले एक माह से बिना किसी सूचना के ड्यूटी से गायब है। SP ने जिसके निलंबन के आदेश जारी किए है। ASP ने बताया कि कांस्टेबल की पत्नी ने उस पर अप्राकृतिक कृत्य के आरोप लगाते हुए पांढुर्ना थाने में मामला दर्ज कराया था। कांस्टेबल गिरफ्तारी और मेडिकल से बचने के लिए पिछले एक माह से फरार है। कांस्टेबल पर लगे गंभीर आरोप और फरारी के बाद गुरुवार को SP ने उसके निलंबन के आदेश जारी कर दिए है।