comScore

मुंबई, हावड़ा, पुणे जानेवाली गाड़ियां हाउसफुल, किराया 3 हजार के करीब

मुंबई, हावड़ा, पुणे जानेवाली गाड़ियां हाउसफुल, किराया 3 हजार के करीब

डिजिटल डेस्क, नागपुर। दिवाली का असर ट्रेनों पर दिखना शुरू हो गया है। जहां एक ओर दिवाली के दूसरे दिन से ही नागपुर से हावड़ा, मुंबई, पुणे जानेवाली गाड़ियों में यात्रियों को टिकट नहीं मिल रही है। वही दुरंतो व राजधानी में फ्लैक्सीबल किराया 3 हजार तक पहुंच गया है। जिससे यात्रियों की जेब ढीली हो रही है। हालांकि दिवाली तक नागपुर से जानेवाली गाड़ियां खाली स्थिति में है।

उल्लेखनीय है कि कुछ ट्रेनों में फ्लैक्सीबल किराया यात्रियों से लिया जाता है। टिकटों की बिक्री के साथ इन टिकटों का किराया बढ़ते जाता है। इस तरह का किराया सभी ट्रेनों में नहीं होता बल्कि दुरंतो, राजधानी व शताब्दी गाड़ियों तक ही सीमित है,  लेकिन नागपुर से दुरंतो व राजधानी गाड़ियां जाने से यहां के यात्रियों को भी इन दिनों फ्लैक्सीबल किराया का सामना करना पड़ रहा है। नागपुर स्टेशन से प्रतिदिन नागपुर-मुंबई-नागपुर दुरंतो एक्सप्रेस चलती है।  बंगलुरू-दिल्ली, मद्रास-दिल्ली, बिलासपुर-दिल्ली व सिकंदराबाद-दिल्ली के लिए राजधानी चलती है। नागपुर से मुंबई जानेवाली दुरंतो एक्सप्रेस का आम दिनों का किराया एसी-2 का 1965 रुपये है। एसी-3 का 1390 रुपये है। दिवाली के बाद इन ट्रेनों में टिकट हासिल करने के लिए यात्रियों ने एसी-2 में 2865 व एसी-3 में 1880 रुपये तक किराया दिया है। इसी तरह दिल्ली जानेवाली ट्रेनों में फ्लैक्सीबल किराये के नाम पर एसी-2 में 3260 व एसी-3 में 2325 रुपये यात्रियों को किराया देना पड़ रहा है। जिससे यात्रियों की जेब ढीली हो रही है।

रीग्रेट की स्थिति में गाड़ियां 

नागपुर शहर से कई युवा शिक्षा या नौकरी के लिए मुंबई, पुणे व हावड़ा आदि जगहों पर जाकर बस जाते हैं। लेकिन उनका परिवार नागपुर में ही रहता है। ऐसे में दिवाली, होली आदि त्योहारों में वे अपने परिवार के साथ रहते हैं। इसी तरह बाहर रहनेवाले कई लोग नागपुर में अपने परिजनों के साथ दिवाली मनाने के लिए आते हैं। परिणामस्वरूप ट्रेनों में यात्रियों की भीड़ बढ़ जाती है। इन दिनों भी यही हाल है, 28 अक्तूबर की दीपावली रहने के कारण नागपुर में मुंबई, पुणे, हावड़ा दिशा से आनेवालों की भीड़ बढ़ गई है।  दिवाली के दूसरे दिन यानी 29 अक्तूबर से 5 नवंबर तक नागपुर-मुंबई विदर्भ एक्सप्रेस, दुरंतो एक्सप्रेस, सेवाग्राम एक्सप्रेस, नागपुर-पुणे व गरीबरथ ट्रेनों में रीग्रेड की स्थिति बन गई है।  

निजी बसों का टिकट भी महंगा 

निजी बसों के भरोसे रहनेवालों की जेब भी खाली होना तय है। क्योकि यात्रियों को उन्हें वर्तमान किराये की तुलना में 3 से चार गुणा ज्यादा किराया देना पड़ सकता है। यानी वर्तमान स्थिति में नागपुर से पुणे के लिए 850 रुपये देना पड़ रहा है। लेकिन दिवाली के एक दिन बाद ही इसकी टिकट ढाई हजार रुपये तक हो जाएगी।इंदौर, भोपाल, औरंगाबाद, हैदराबाद, नाशिक की टिकटें भी 2 हजार से ज्यादा में खरीदनी पड़ेगी।  दिवाली के पहले भी यह टिकटें महंगी है लेकिन बहुत ज्यादा नहीं।

कमेंट करें
DjevN