comScore

बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए गठित हाई पॉवर कमेटी की सिफारिशों पर कितना अमल किया

बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए गठित हाई पॉवर कमेटी की सिफारिशों पर कितना अमल किया

हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से किया जवाब-तलब, अगली सुनवाई 11 फरवरी को
डिजिटल डेस्क जबलपुर ।
मप्र हाईकोर्ट बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए राज्य सरकार की ओर से पेश किए गए जवाब से संतुष्ट नहीं हुई है। चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक और जस्टिस विजय कुमार शुक्ला की डिवीजन बैंच ने राज्य सरकार से पूछा है कि बर्ड फ्लू को लेकर वर्ष 2006 में गठित हाई पॉवर कमेटी की सिफारिशों पर कितना अमल किया गया। मामले की अगली सुनवाई 11 फरवरी को होगी। 
यह है मामला -  बर्ड फ्लू की रोकथाम को लेकर नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच के डॉ. पीजी नाजपांडे और रजत भार्गव ने जनहित याचिका दायर की है। याचिका में कहा गया है कि मध्य प्रदेश सहित देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू फैल गया है। राज्य सरकार की ओर से बर्ड फ्लू रोकने के लिए इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं।
2006 में भी फैला था बर्ड फ्लू -  याचिका में कहा गया है कि  वर्ष 2006 में भी बर्ड फ्लू फैल गया था। उस समय जबलपुर के डॉ. वायसी चाऊ ने जनहित याचिका दायर की थी। हाईकोर्ट के आदेश पर विशेषज्ञों की हाई पॉवर कमेटी गठित की गई। हाई पॉवर कमेटी ने बर्ड फ्लू रोकने के लिए प्रयोगशालाओं को उपकरणों से सुसज्जित करने सहित कई सिफारिशें की थीं।  12 जनवरी 2021 को डिवीजन बैंच ने राज्य सरकार से जवाब माँगा था कि वर्ष 2006 में गठित हाई पॉवर कमेटी की सिफारिशों पर कितना अमल किया गया। राज्य सरकार की ओर से पेश किए गए जवाब में कहा गया कि बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। सभी संबंधित अधिकारियों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। 
राज्य सरकार का जवाब संतोषजनक नहीं 
याचिकाकर्ताओं की ओर से अधिवक्ता आदित्य संघी ने कहा कि राज्य सरकार का जवाब संतोषजनक नहीं है। जवाब में  यह नहीं बताया गया है कि वर्ष 2006 में बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए गठित हाई पॉवर कमेटी की सिफारिशों पर कितना अमल किया गया है। डिवीजन बैंच ने इस पर राज्य सरकार से जवाब-तलब किया है। 

कमेंट करें
hWLrc
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।