दैनिक भास्कर हिंदी: बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी धोखाधड़ी का मुख्य सूत्रधार पुणे पुलिस के हवाले, दिल्ली हवाई अड्‌डे पर धराया

April 5th, 2018

डिजिटल डेस्क, पुणे। बिटकॉइन के जरिए देश के करीबन 8 हजार लोगों को करोड़ों का चूना लगाने के मामले में मुख्य सूत्रधार अमित भारद्वाज को पुलिस ने दिल्ली हवाई अड्‌डे से गिरफ्तार किया। गुरूवार को न्यायालय ने उसे 13 अप्रैल तक पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया। इस मामले में पुलिस ने बताया कि बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी धोखाधड़ी का मुख्य आरोपी भारद्वाज अपने दो भाईयों समेत विदेश भागनेवाला है, ऐसी जानकारी पुलिस को मिली थी। इसलिए पुणे पुलिस ने भारद्वाज के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था। जिसके बाद बुधवार रात केन्द्रीय जांच यंत्रणा द्वारा दिल्ली हवाई अड्‌डे पर भारद्वाज को गिरफ्तार किया गया। गुरूवार को उसे पुणे पुलिस ने हिरासत में लिया। उसे न्यायालय में पेश करने पर 13 अप्रैल तक पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया गया। 

देश में अब तक तीन मामले दर्ज 
बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी धोखाधड़ी को लेकर देश में अब तक तीन मामले दर्ज हुए हैं। जिनमेंपुणे में दर्ज हुए दो मामले शामिल हैं। दत्तवाड़ी तथा निगड़ी पुलिस थानों में मामला दर्ज कर आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया हैं। पुलिस ने अब तक 32 बिटकॉईन, 7999 इथर और 38 लाख 96 हजार रुपये नकद जब्त किए हैं। बिटकॉईन क्रिप्टो करेंसी में निवेश करनेवाले 15 देशों के 84 हजार निवेशकों से धोखाधड़ी हुई हैं। 7 लाख बिटकॉईन में करीबन 35 हजार करोड़ रुपयों का निवेश होने का जांच में पाया गया है। इस प्रकरण में अब तक 25 निवेशकों से 2 करोड़ 25 लाख रूपयों की धोखाधड़ी की गई है।  

क्या है बिटकॉईन? 
बिटकॉइन एक वर्चुअल यानी आभासी मुद्रा है, आभासी मतलब कि अन्य मुद्रा की तरह इसका कोई भौतिक स्वरुप नहीं है। यह एक डिजिटल करेंसी है। ऑनलाईन माध्यम से व्यवहार होकर इ-बैलेन्स के रूप में दिखता है। एक बिटकॉईन की कीमत करीबन 5 लाख रूपए जबकि एमकैप की कीमत 13 रूपए हैं। यह किसी भी देश की करेंसी नहीं है। उस पर किसी भी शासकीय यंत्रणा का नियंत्रण नहीं है। शेअर मार्केट की तरह उसकी कीमत हर पल में बदलती है। पूरी दुनिया में अपराधियों द्वारा बिटकॉईन क्रिप्टो करेंसी का अधिक उपयोग किया जाता है। कुछ देशों में इस पर पाबंदी लगाई गई है। भारत में बिटकॉईन को लेकर निश्चित नीति नहीं है।