दैनिक भास्कर हिंदी: पिस्ता की जगह मिलाया जा रहा था मूंगफली दाना, FDA ने कारखाने पर मारा छापा

January 4th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। खाद्य व औषधि प्रशासन (एफडीए) विभाग ने पांचपावली पहला फाटक टिमकी स्थित गंगा स्वीट्स पर छापा मारकर 3 लाख 16 हजार 745 रुपए की सोनपापड़ी जब्त की। सोनपापड़ी में पिस्ता के नाम पर केमिकलयुक्त मूंगफली दाना मिलाया जा रहा था। एफडीए ने केमिकलयुक्त मूंगफली दाना  व हरे खाद्य रंग को जांच के लिए प्रयोगशाला भेज दिया है। 

यह है मामला
उल्लेखनीय है कि एफडीए ने शिकायत के आधार पर 2 जनवरी की शाम को टिमकी में राजू शिवाजी भुंजे के गंगा स्वीट्स पर छापा मारकर 4873 किलो सोनपापड़ी, जिसका मूल्य 3 लाख 16 हजार 745 रुपए है, जब्त किया। सोनपापड़ी में पिस्ता की जगह सेंगदाना मिलाया जा रहा था। सेंगदाने को केमिकल से हरा बनाया गया था, ताकि यह पिस्ता दिखाई दे। एफडीए ने हरे रंग के सेंगदाने व कृत्रिम हरा खाद्य रंग भी जब्त किया। जांच के लिए इसके नमूने प्रयोगशाला भेजे गए हैं। एफडीए के अनुसार, सोनपापड़ी के लेबल पर पिस्ता होने का उल्लेख था। प्रयोगशाला से रिपोर्ट मिलने के बाद अन्न सुरक्षा व कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।

एफडीए ने इस तरह का गैर-कानूनी काम करने वालों की सूचना देने की अपील की है। शिकायतकर्ता का नाम विभाग की तरफ से गुप्त रखा जाता है। एफडीए के सह आयुक्त (खाद्य) शशिकांत केकरे के मार्गदर्शन व सहायक आयुक्त मिलिंद देशपांडे के नेतृत्व में की गई कार्रवाई में खाद्य सुरक्षा अधिकारी अनंत चौधरी, अभय देशपांडे शामिल थे। 

पालकमंत्री के जनता दरबार में उठा था मामला 
एफडीए ने  जिस सोनपापड़ी कारखाने पर कार्रवाई की, उसका मामला हाल ही में सतरंजीपुरा जोन में हुए पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले के जनता दरबार में उठा था। जनता दरबार में सोनपापड़ी कारखाने के अलावा पांचपावली फ्लाई ओवर के नीचे की जगह फर्जी दस्तावेजों के आधार पर पालक के तौर पर मनपा से लेने का भी आरोप लगाया गया था। पालकमंत्री ने उचित कार्रवाई करने के निर्देश संबंधित विभाग के अधिकारियों को दिए थे।