दैनिक भास्कर हिंदी: घटस्थापना के साथ नवरात्रि का शुभारंभ, कोराड़ी में उमड़ा भक्तों का सैलाब

September 29th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। श्री महालक्ष्मी मां के साक्षात स्वरूप के दर्शन के लिए वर्ष में दो बार कोराडी में मेला लगा है। प्रथम चैत्र की चौदस, द्वितीय अश्विन प्रतिपदा को। इस अवसर के दर्शन को परमश्रेष्ठ माना जाता है। मान्यता है कि, इस समय श्रद्धालुओं की मनोकामना मां अवश्य पूर्ण करती है। नवरात्रि पवित्र और शक्तिदायक पर्व माना जाता है। इस समय की गई आराधना धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष दिलाने वाली होती है। विशेषकर नवरात्र अश्विन प्रतिपदा से आरंभ होता है। कोराडी के महालक्ष्मी जगदम्बा मंदिर में रविवार को ‘जय माता दी’ की जयघोष के साथ अश्विन नवरात्रोत्सव प्रारंभ हुआ। सुबह चार बजे श्री महालक्ष्मी माता को अभंग स्नान कराया गया।  इसके पश्चात साज श्रृंगार चढ़ाया गया। पूजा के पश्चात महाआरती की गई। पुजारियों ने शंखनाद किया। दर्शन के लिए रात 12 बजे से भक्तों की कतार लगना शुरू हो गई थी। सुबह चार बजे से सुबह 10 बजे तक माता के स्वयंभू दर्शन के लिए भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा था। कोराडी महालक्ष्मी जगदम्बा के तीन रूपों के दर्शन कर भक्त धन्य हो रहे हैं। प्रात: काल में बाल रूप, दोपहर में युवा रूप तथा शाम में प्रौढ़ रूप चमत्कारिक है। संस्थान के मार्गदर्शक चंद्रशेखर बावनकुले ने पत्नी ज्योतिताई, पुत्र संकेत के साथ माता के दर्शन कर नवरात्रि उत्सव का प्रारंभ किया। दस बजे के पश्चात घटस्थापना की गई। शाम पांच बजे पारंपरिक पद्धति से संस्थान के अध्यक्ष एड. मुकेश शर्मा ने अखंड महाज्योति का प्रज्वलन किया। इस समय मनोहारी गर्भगृह स्थित अत्यंत सुंदर महाज्योति जगमगा रही थी।