comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

अंतर्राष्ट्रीय फसल अनुसंधान संस्थान को ड्रोन का उपयोग करने की अनुमति दी

November 17th, 2020 15:07 IST
अंतर्राष्ट्रीय फसल अनुसंधान संस्थान को ड्रोन का उपयोग करने की अनुमति दी

नागरिक उड्डयन मंत्रालय अंतर्राष्ट्रीय फसल अनुसंधान संस्थान को ड्रोन का उपयोग करने की अनुमति दी यह अनुमति कृषि अनुसंधान गतिविधियों के लिए ड्रोन का उपयोग करने के लिए दी गई। नागर विमानन मंत्रालय और नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने कृषि अनुसंधान गतिविधियों के लिए अंतर्राष्ट्रीय अर्ध-शुष्क उष्णकटिबंधीय फसल अनुसंधान संस्थान (आईसीआरआईएसएटी) हैदराबाद, तेलंगाना को ड्रोन की तैनाती करने के लिए सशर्त छूट दी है। नागर विमानन मंत्रालय के संयुक्त सचिवश्री अंबर दुबे ने बताया कि ड्रोन भारत के कृषि क्षेत्र में विशेष रूप से उचित कृषि, टिड्डी नियंत्रण और फसल उपज में सुधार लाने जैसे क्षेत्रों में बड़ी भूमिका निभाने के लिए तैयार हैं। सरकार युवा उद्यमियों और शोधकर्ताओं को देश के 6.6 लाख से अधिक गांवों में कम कीमत के ड्रोन समाधान प्रदान करने के लिए प्रोत्‍साहित कर रही है। यह सशर्त छूट इस आशय का पत्र जारी होने की तिथि से छह माह की अवधि के लिए या डिजिटल स्काई प्लेटफॉर्म (चरण-1) के पूर्ण परिचालन तक, जो भी पहले हो, मान्य होगी। यह छूट तभी मान्य होगी, जब नीचे दी गई सभी शर्तों और सीमाओं का सख्‍ती से अनुपालन किया जाए। किसी भी शर्त के उल्लंघन के मामले में, यह छूट समाप्‍त हो जाएगी। रिमोटली पायलेटिड एयर क्राफ्ट सिस्‍टम्‍स का उपयोग करते हुए आईसीआरआईएसएटी के क्षेत्र में कृषि अनुसंधान गतिविधियों के लिए डेटा अधिग्रहण हेतु आईसीआरआईएसएटी के लिए शर्तें और सीमाएं नीचे दी गई हैं:आईसीआरआईएसएटीको सीएआर की धारा 3, सीरीज X, भाग-I (अर्थात 5.2 (बी), 5.3, 6.1, 6.2, 6.3, 7.1, 7.3, 9.2, 9.3, 11.1 (डी), 11.2 (ए), 12.4) के संबंधित प्रावधानों से यह छूट, नागर विमानन मंत्रालय द्वारा एयरक्राफ्ट नियमावली,1937 के नियम 15ए से छूट की शर्त पर है। आईसीआरआईएसएटी (ए) स्थानीय प्रशासन (बी) रक्षा मंत्रालय (सी) गृह मंत्रालय (डी) भारतीय वायु सेना से वायु सुरक्षा मंजूरी और (ई) भारतीय विमान पत्‍तन प्राधिकरण (एएआई) से रिमोटली पायलेटिड एयर क्राफ्ट सिस्टम्स के परिचालन की पूर्व अनुमति प्राप्‍त करने के लिए आवश्‍यक मंजूरी प्राप्‍त करेगा। आईसीआरआईएसएटीकेवल आरपीएएसका संचालन करेगा, जिसके बारे में भारत सरकार को स्‍वैच्छिक जानकारी दी गई है और जिसके लिए वैध ड्रोन अभिस्वीकृति संख्या (डीएएन) (अर्थातक्‍यूयूएडीआईसीआरआईएसएटी 2019 के लिए डी1एडीएओओटी2सी)जारी की गई है। आईसीआरआईएसएटी अपने परिचालन के दायरे के बारे में व्‍यापक जानकारी और एसओपी की एक प्रति उड़ान मानक निदेशालय (एफएसडी), डीजीसीए को प्रस्‍तुत करेगा। एसओपी की जांच और मंजूरी के बाद ही रिमोटली पॉयलट एयरक्राफ्ट सिस्टम (आरपीएएस) का संचालन किया जा सकेगा। आईसीआरआईएसएटी विनियम और सूचना निदेशालय, डीजीसीए से हवाई फोटोग्राफी के बारे में आवश्यक अनुमति लेगा। आरपीएएस के माध्यम से प्राप्‍त की गई तस्वीरों/वीडियो-ग्राफ का उपयोग केवल आईसीआरआईएसएटी द्वारा किया जाएगा। आरपीएएसकी सुरक्षा और आरपीएएस केद्वारा एकत्र किए गए डेटा की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी संस्‍थान की होगी। आरपीएएसका संचालन विजुअल लाइन ऑफ साइट (वीएलओएस) के तहत सूर्योदय से सूर्यास्त तक दिन के समय ही सीमित रहेगा। आईसीआरआईएसएटीइन परिचालनों के कारण पैदा हुए कानूनी मुद्दों या अन्‍य मुद्दों से डीजीसीए को सुरक्षित रखेगा। संस्‍थान यह सुनिश्चित करेगा कि आरपीएएस अच्‍छी तरह से काम कर रहा है और वह उपकरण की खराबी के कारण उत्‍पन्‍न होने वाली किसी भी स्थिति के लिए जिम्‍मेदार होगा। उपकरणों के साथ शारीरिक संपर्क के कारण किसी भी व्यक्ति को लगी चोट के मामले में,संस्‍थान ही मेडिको-लीगल मुद्दों के लिए जिम्मेदार होगा। यह संस्‍थान आरपीएएस परिचालन के दौरान हुई दुर्घटना/घटना के कारण तीसरी पार्टी को हुई क्षति को कवर करने के लिए बीमे का पर्याप्‍त स्‍तर रखेगा। यह संस्‍थान यह सुनिश्चित करेगा कि खतरनाक सामग्री या परिवर्तनीय पेलोड का किसी भी स्थिति में आरपीए के लिए उपयोग न किया जाए। यह संस्‍थान सुरक्षा, जनता की सुरक्षा और गोपनीयता, संपत्ति/परिचालन आदि सुनिश्चित करेगा। किसी भी घटना के मामले में, डीजीसीए को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाएगा। यह संस्‍थान संबंधित मंत्रालयों/प्राधिकरणों की स्वीकृति के बिना सीएआर कीधारा 3 श्रृंखला-X भाग-1 पैरा 13.1 में निर्दिष्ट 10-फ्लाई ज़ोन में आरपीएएसको संचालित नहीं करेगा। सीएआर के प्रावधानों के अनुसार हवाई अड्डे के आसपास आरपीएएस को संचालित नहीं किया जाएगा।

कमेंट करें
YcjKS
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।