comScore

एफसीआई रिश्वतकांड मामले  में जबलपुर सीबीआई छापे के तार सिवनी से भी जुड़े!

एफसीआई रिश्वतकांड मामले  में जबलपुर सीबीआई छापे के तार सिवनी से भी जुड़े!

जांच के दायरे में आई बालाजी ट्रांसपोर्ट व उसकी सहयोगी नर्मदा ट्रांसपोर्ट तथा तिरूपति कार्गो ने सिवनी में भी किया बड़ा घालमेल, ब्लैक लिस्टेड तक हुईं
डिजिटल डेस्क सिवनी ।
भोपाल एफसीआई रिश्वतकांड मामले में भोपाल सीबीआई की टीम द्वारा मंगलवार को जबलपुर में जिस  बालाजी ट्रांसपोर्ट व उसकी सहयोगी कंपनियां नर्मदा ट्रांसपोर्ट तथा तिरूपति कार्गो में छापा मारा, उसने सिवनी में भी बड़ा घालमेल किया है। यह तीनों ही कंपनियां अलग-अलग समय पर सिवनी में एफसीआई, नागरिक आपूर्ति निगम, मार्कफेड के लिए खाद्यान्न आपूर्ति का काम करती थीं और इन्हें समय-समय पर ब्लैक लिस्टेड भी किया गया।
पिछले साल ही किया गया था ब्लैक लिस्टेड
तिरूपति कार्गो को पिछले साल अक्टूबर माह में जबलपुर व सिवनी से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण वितरण योजनांतर्गत वितरित किए जाने वाले गेहंू के परिवहन में लापरवाही किए जाने पर ब्लैकलिस्टेड किया गया था। नागरिक आपूर्ति निगम के एमडी अभिजीत अग्रवाल ने ब्लैकलिस्टेड करने के साथ ही तिरूपति कार्गो की करीब 10 लाख रूपए की प्रतिभूति बैंक गारंटी राजसात करने का आदेश भी जारी किया था। यह कार्रवाई  मार्च 2020 में तिरूपति कार्गो को सिवनी से बालाघाट 11 हजार मेट्रिक टन गेहंू पहुंचाने के आदेश के बावजूद लापरवाही करते हुए केवल 5501.11 मेट्रिक टन गेहंू पहुंचाने तथा जबलपुर से बालाघाट चना दाल पहुंचाने में लापरवाही किए जाने पर की गई थी। नान के एमडी के इस आदेश के विरुद्ध तिरूपति कार्गो ने न्यायालय से स्टे हासिल कर लिया था।
गहन जांच हो तो हो सकते हैं बड़े खुलासे
 एफसीआई, नागरिक आपूर्ति निगम, मार्कफेड के लिए खाद्यान्न आपूर्ति के काम के जानकारों की मानें तो यदि सीबीआई सिवनी में हुए कारोबार की गहन जांच करे तो यहां बड़े खुलासे हो सकते हैं। जांच में ट्रांसपोर्ट कंपनी की ऊंची राजनीतिक व प्रशासनिक पहुंच, नीचे से ऊपर तक की जमावट और वे किस तरह से काकस बना कर मनचाही दर पर टेंडर हासिल कर लेती हैं, यह भी जांच में सामने आ जाएगा।
सीबीआई के आने का मचा हल्ला
बुधवार को सीबीआई की टीम के सिवनी आने का दिन भर हल्ला मचा रहा। शुरूआत नरसिंहपुर से हुई जहां के एक ट्रांसपोर्टर ने इस बात को आम किया कि एफसीआई रिश्वत कांड मामले में सीबीआई ने सिवनी में एक रिगफ्तारी की है। हालाकि इसकी देर शाम तक पुष्टि नहीं हुई। नरसिंहपुर से चली गिरफ्तारी की बात को सिवनी में इसलिए भी बल मिला क्योंकि तिरूपति कार्गो का सिवनी में भी कार्यालय है। इसके चलते भी सीबीआई के आने की बात दिन भर चलती रही।
 

कमेंट करें
0ITBK