दैनिक भास्कर हिंदी: ग्वारीघाट में मिला छात्र का शव, दोस्तों के साथ स्नान के लिए निकला था घर से

April 27th, 2019

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। ग्वारीघाट के उमा और नावघाट के बीच में शाम करीब पौने 7 बजे एक किशोर का शव मिला। नदी में शव देखकर लोग दहशत में आ गए और फिर पुलिस को खबर दी गई। सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची और शव को नदी से बाहर निकलवाया गया। मृतक के कपड़े भी नहीं थे, लिहाजा उसकी पहचान नहीं हो सकी। इसके बाद पुलिस ने सोशल मीडिया पर मृतक की तस्वीरें वायरल कीं और फिर करीब आधे घंटे बाद गौरैयाघाट गौर निवासी मुनील चौहान कुछ लोगों के साथ ग्वारीघाट पहुंचे, जिन्होंने मृतक की पहचान अपने  15 वर्षीय बेटे नितेश चौहान के रूप में की।

खोज रहे थे परिजन  
मुनील चौहान ने पुलिस को बताया कि नितेश नवमीं कक्षा का छात्र है। वह सिविल लाइन स्थित स्कूल में पढ़ाई करता है। मुनील के अनुसार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे नितेश घर से अपने दोस्तों के साथ ग्वारीघाट जाने का कहकर निकला था, लेकिन इसके बाद उसके नहीं लौटने पर वे लोग उसे तलाश रहे थे। इसी बीच किसी परिचित ने उन्हें वॉट्सएप पर वायरल तस्वीरें दिखाईं और वे वहां पहुंचे थे। मुनील का कहना है कि उनका बेटा किन दोस्तों के साथ ग्वारीघाट पहुंचा था, इसकी उसे भी जानकारी नहीं है। लिहाजा ऐसा माना जा रहा है कि नहाते समय नितेश डूब गया होगा, जिसके कारण उसके दोस्त चुपचाप वहां से चले गए होंगे। हालांकि पुलिस ने किसी भी संभावना से इनकार करते हुए गंभीरता से जांच शुरू कर दी है। 

वैभव टॉकीज की दीवार को लेकर हंगामा
गोरखपुर थाना क्षेत्र स्थित पुरानी वैभव टॉकीज के मालिक सिविल लाइन निवासी हर्ष केडिया ने भाजपा नेता व एमआईसी मेम्बर कमलेश अग्रवाल, उनके परिवार और मोहल्ले के कुछ लोगों पर प्रॉपर्टी पर अवैध कब्जा करने के लिए गुंडागर्दी के आरोप लगाते हुए गोरखपुर थाने में शिकायत दी है। हर्ष केडिया का आरोप है कि कमलेश अग्रवाल, दीपक अग्रवाल, राधेश्याम अग्रवाल, गोपाल अग्रवाल, हरभजन सिंह चौपड़ा, कृष्णचंद रजक, शशिबाला राव उनकी प्रॉपर्टी हड़पने के लिए लगातार षड्यंत्र रच रहे हैं। जिसके कारण गुरुवार को उपरोक्त सभी लोग 10-12 लोगों के साथ उनकी प्रॉपर्टी में घुसे और उसके सुपरवाइजर के साथ मारपीट करके दीवार तोड़ने लगे।

वहीं एमआईसी मेम्बर कमलेश अग्रवाल का कहना है कि वे किसी की प्रॉपर्टी में कब्जा नहीं कर रहे, बल्कि हर्ष केडिया ने कंजरवेंसी पर अवैध कब्जा करते हुए दीवार बना दी है, जिसके कारण मोहल्ले के कई घरों की नालियां बंद हो गईं थी। घरों में गंदा पानी भरने के कारण लोग परेशान थे, इसी वजह से मोहल्ले वालों ने दीवार तोड़ने के लिए हर्ष केडिया के खिलाफ थाने और नगरनिगम में शिकायत दी थी। जिस पर निगम ने उसे नोटिस भेजकर प्रॉपर्टी के दस्तावेज मांगे थे।