• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Jabalpur: Discussion on pea production as per requirement of pea processing units in workshop of farmers and entrepreneurs

दैनिक भास्कर हिंदी: जबलपुर: किसानों और उद्यमियों की कार्यशाला में मटर प्रसंस्करण ईकाईयों की आवश्यकता के अनुरुप मटर उत्पादन पर हुई चर्चा

December 24th, 2020

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। जबलपुर एक जिला एक उत्पाद कार्यक्रम के तहत मटर प्रसंस्करण ईकाईयों की आवश्यकता के अनुरूप मटर के उत्पादन को प्रोत्साहित करने तथा इस दिशा में किसानों के सामने आ रही कठिनाईयों पर चर्चा करने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में किसानों के प्रतिनिधियों, उद्यमियों, मटर प्रसंस्करण ईकाईयों के संचालकों तथा कृषि वैज्ञानिकों एवं कृषि और उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों की कार्यशाला आयोजित की गई। कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा की मौजूदगी में आयोजित इस कार्यशाला में मटर प्रसंस्करण ईकाईयों की स्थापना की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की गई। इसके साथ ही जिले में मौजूदा प्रसंस्करण ईकाईयों के विस्तार की योजना तथा इन ईकाइयों की आवश्यकता के अनुसार मटर का उत्पादन बढ़ाने पर भी विस्तार से विचार-विमर्श किया गया। कार्यशाला के प्रारंभ में कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा ने इसके आयोजन के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि एक जिला एक उत्पाद कार्यक्रम के तहत बड़ी मात्रा में उत्पादन को देखते हुए जबलपुर में मटर के क्षेत्र का चयन किया गया है। उन्होंने बताया कि मटर की खेती, मटर की प्रोसेसिंग तथा प्रोसेस्ड मटर के निर्यात की प्रक्रिया से जुड़े व्यक्तियों को एक प्लेटफार्म पर लाकर उनकी कठिनाईयों तथा सुझावों को जानना इस कार्यशाला का मुख्य मकसद है ताकि उनका निराकरण एवं उन पर अमल कर जबलपुर की मटर को एक ब्राण्ड के रूप में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में विशिष्ट पहचान दिलाई जा सके। कलेक्टर ने कार्यशाला में मटर प्रसंस्करण ईकाइयों की आवश्यकता तथा जलवायु के अनुरुप मटर की अच्छी किस्म लगाने की आवश्यकता बताई। ताकि न केवल मटर की उत्पादकता बढ़े बल्कि उसकी गुणवत्ता में सुधार हो और जबलपुर के मटर की देश-विदेश में मांग बढ़े। उन्होंने कहा कि इसके लिए मटर प्रसंस्करण ईकाइयों एवं मटर उत्पादक किसानों के बीच आपस में समन्वय होना बेहद जरूरी है। श्री शर्मा ने मटर उत्पादक किसानों के सुझाव पर कोल्ड स्टोरेज स्थापित करने के इच्छुक उद्यमियों से इस दिशा में अपने प्रस्ताव प्रशासन के समक्ष रखने की बात कही। कलेक्टर ने किसानों को मटर की अच्छी किस्म के बीज उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी संभालने बीज निगम के अधिकारियों को निर्देश दिये। उन्होंने कृषि वैज्ञानिकों से भी आग्रह किया कि स्थानीय जलवायु प्रसंस्करण ईकाइयों की आवश्यकता के अनुरूप किसानों को मटर की किस्म लगाने की सलाह दें ताकि उन्हें भी ज्यादा लाभ हो और पूरे देश में जबलपुर की मटर की ख्याति बढ़े। कलेक्टर ने कार्यशाला में जबलपुर से मटर का देश के अन्य राज्यों के साथ विदेशों को निर्यात करने की संभावनाओं पर भी मटर उत्पादक किसानों एवं उद्यमियों से चर्चा की। उन्होंने कोल्ड स्टोरेज एवं मटर प्रसंस्करण ईकाई की स्थापना के इच्छुक उद्यमियों के साथ ऋण एवं गारंटी संबंधी कठिनाईयों का निराकरण करने बैंक अधिकारियों एवं उद्यमियों की बैठक बुलाने के निर्देश अधिकारियों को दिये। कार्यशाला में जिला पंचायत के सीईयो एवं अपर कलेक्टर संदीप जीआर, महाकोशल चेम्बर ऑफ कामर्स के श्री रवि गुप्ता, मटर प्रसंस्करण ईकाई भानुफार्म एवं फ्रोजन एग्रो के संचालक तथा मटर उत्पादक किसानों के समूहों के प्रतिनिधि मौजूद रहे।