दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर सहित विदर्भ में कई स्थानों पर छाए बादल, मौसम में घुली ठंडक

March 19th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। गुरुवार-शुक्रवार दरमियानी रात उपराजधानी में बारिश हुई। शुक्रवार सुबह भी कई इलाकों में हल्की बारिश होने के बाद मौसम में ठंडक घुल गई। इससे पहले गुरुवार सुबह आसमान में बदली छाई रही। जिससे अधिकतम तापमान में कमी आई थी और शहरवासियों को गर्मी से राहत मिली है। अधिकतम तापमान में 5 डिग्री से ज्यादा की कमी आई थी। मौसम विभाग संभावना जता चुका था कि शुक्रवार 19 मार्च को भी उपराजधानी समेत विदर्भ में गरज-चमक के साथ बारिश होगी। शनिवार को भी जिले में कुछ स्थानों पर आलम यही रह सकता है। मौसम विभाग ने नागपुर समेत विदर्भ में ऑरेंज व येलो अलर्ट जारी किया गया है। गुरुवार को नागपुर में अधिकतम तापमान 31.6 व न्यूनतम 21 डिग्री सेल्सियस रहा।

तेज हवा

मौसम विभाग के अनुसार अलग-अलग दिशाओं से आ रही हवा व नमी के कारण मौसम का मिजाज बदला है। उत्तर-पश्चिम व दक्षिण-पूर्वी हवा चलने से बारिश की संभावना बढ़ गई है। गुरुवार को विदर्भ में कुछ स्थानों पर ओलावृष्टि हुई थी। शुक्रवार को गरज-चमक के साथ बारिश होने की चेतावनी दी गई थी। बारिश के साथ ही 30-40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चल सकती है। गुरुवार रात आंधी-तूफान जैसा माहौल बनता दिखा था। येलो अलर्ट जारी किया गया है।


तारीख अधिकतम न्यूनतम

18 मार्च 31.6 21.0
17 मार्च 36.8 21.3

16 मार्च 37.3 20.2
15 मार्च 37.2 19.9

14 मार्च 35.1 19.0


तेज आंधी के साथ हुई बेमौसम बारिश से भारी नुकसान

पिछले दो दिन से मौसम में आए बदलाव के कारण किसानों के साथ-साथ सामान्य जनों का भी काफी नुकसान होने की खबर मिली है। अनेक स्थानों पर तेज आंधी के साथ हुई वर्षा ने काफी तबाही मचाई। कई जगह ओलावृष्टि होने की भी खबर मिली है। अमरावती जिले में गाज गिरने से एक व्यक्ति की मृत्यु के साथ कुछ पशुओं की भी जान चली गई। 

अमरावती जिले में गुरुवार रात हुई बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से रबी की फसलें खराब हो गईं। जिले के पथ्रोट, कुर्हा परिसर में गेहूं की फसलें जमींदोज हो गईं। अनेक स्थानों पर संतरा और चने की फसलें भी प्रभावित हुईं। इस बीच पथ्रोट में बैल को पानी पिलाने गए किसान पुत्र अविनाश सुरेश गोल्हर (26) तथा उसके बैल की भी गाज गिरने से मौत हो गई। कुर्हा और अंजनवती ग्राम पंचायत के सौदापुर में भी गाज गिरने से दो-दो बैलों की जान चली गई। इसके अलावा घोटा, मालेगांव, चेनुष्ठा, बोर्डा, हसनापुर, आलवाड़ा, दुर्गवाड़ा, जहांगीरपुर, मारडा, वंडली, मिर्चापुर, छिदवाडी, कौंडिण्यपुर, अंजनवती, मसदी, वाढोणा,सालोरा खुर्द आदि क्षेत्रों में फसलों का नुकसान  होने की खबर मिली है। अनेक मकान भी क्षतिग्रस्त हुए, कई मकानों के टीन उ़ गए। कई जगह पेड़ धराशायी होने से बिजली आपूर्ति रातभर खंडित रही। 

अमरावती शहर में भी रात करीब 9.30 बजे के दौरान बिजली गिरने से साईंनगर स्थित द्वारका नगर निवासी प्रशांत डहाके के मकान का बड़ा हिस्सा  जमीनदोज हो गया तथा दीवारों में भी दरारें पड़ गईं। वर्धा जिले की आर्वी तहसील में गुरुवार रात ८ बजे के आसपास बिजली की कड़कड़ाहट और तेज आंधी के साथ ओलावृष्ट और बारिश ने काफी नुकसान पहुंचाया। यहां भी कई मकानों के टीन उड़ गए। फसलों के साथ छोटे व्यापरियों का नुकसान हुआ। पशुधन को भी क्षति पहुंची।

आर्वी तहसील के वाढोणा, बोरगांव, धनोडी, अहिरवाडा, कर्माबाद, देऊरवाड़ा सर्कसपूर, ईस्लापूर, राजापुर, नांदपुर आदि परिसर के किसानो की फसलों का भारी नुकसान हुआ। यवतमाल में आंधी के साथ बेमौसम बारिश से बिजली के तार टूट गए जिस कारण अनेक इलाकों की बत्ती गुल रही। गड़चिरोली, गोंदिया तथा भंडारा में भी गुरुवार रात के अलावा शुक्रवार सुबह भी अच्छी वर्षा होने की खबर मिली है।  हालांकि इन जिलों में नुकसान की कोई खबर नहीं मिली है।