comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

महाराष्ट्र ने केंद्र से मांगा 200 मैट्रीक टन अतिरिक्त ऑक्सीजन

महाराष्ट्र ने केंद्र से मांगा 200 मैट्रीक टन अतिरिक्त ऑक्सीजन

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का सामना कर रहे महाराष्ट्र के 16 जिलों में कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से 200 मीट्रिक टन अतिरिक्त ऑक्सीजन की मांग की है। राज्य के मुख्य सचिव सीताराम कुंटे ने इसके लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल के सचिव राजीव गौबा को पत्र लिखा है। ऑक्सीजन के साथ लिक्विड ऑक्सीजन के परिवहन के लिए 10 आईएसओ टैंकर भी उपलब्ध कराने को कहा गया है। दरअसल राज्य में कोरोना संक्रमितों के इलाज में इस्तेमाल होने वाले ऑक्सीजन, रेमडेसीवीर इंजेक्शन की लगातार कमी बनी हुई है। इसी के मद्देनजर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के निर्देश पर कुंटे ने मंत्रिमंडल के सचिव को पत्र भेजा है। राज्य में इस समय कोरोना के 6 लाख 63 हजार 758 संक्रमित मरीज हैं जिनमें से 78 हजार 884 मरीज ऑक्सीजन पर हैं जबकि 24 हजार 787 का आईसीयू में इलाज चल रहा है। राज्य में पालघर, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, सातारा, सांगली, कोल्हापुर, सोलापुर, नंदुरबार, बीड, परभणी, हिंगोली, अमरावती, बुलढाणा, वर्धा, गडचिरोली और चंद्रपुर जिलों में लगातार कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। इसलिए ऑक्सीजन की मांग भी बढ़ रही है। कुंटे ने अपने पत्र में लिखा है कि सभी जिलों में ऑक्सीजन ऑडिट किया जा रहा है। राज्य में ऑक्सीजन की बढ़ती मांग और जरूरत को ध्यान में रखते हुए ऑक्सीजन की आपूर्ति 200 मीट्रिक टन बढ़ाई जानी चाहिए।

पत्र में यह भी लिखा है गया है कि ऑक्सीजन ऐसी जगह उपबल्ध कराई जानी चाहिए जहां से इसे आसानी से राज्य में लाया जा सके क्योंकि इससे पहले ओडिशा के आरआईएनएल, विशाखापट्टनम और जिंदल स्टील के जरिए उपलब्ध कराई गई ऑक्सीजन कागज पर ही रह गई। फिलहाल गुजरात के जामनगर से 125 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है। इसे बढ़कर 225 मीट्रिक टन किया जाना चाहिए साथ ही भिलाई से भी 230 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति होनी चाहिए। कुंटे के मुताबिक दोनों जगहें महाराष्ट्र के करीब हैं इसलिए यहां से जल्द ऑक्सीजन राज्य में लाई जा सकेंगी जिससे मरीजों को समय पर इलाज मिल पाएगा। कुंटे ने पत्र में लिखा है कि ऑक्सीजन के परिवहन के लिए सिंगापुर, दुबई और दूसरे देशों से जो आईएसओ टैंकर मिले हैं उनमें से 10 महाराष्ट्र को दिया जाना चाहिए जिससे ओडिशा के अंगुल से रोरो सेवा के जरिए लिक्विड ऑक्सीजन आसानी से लाई जा सके।

कमेंट करें
eTiPQ