comScore

रिश्वतखोरी में महाराष्ट्र पुलिस ने राजस्व विभाग को पछाड़ा

रिश्वतखोरी में महाराष्ट्र पुलिस ने राजस्व विभाग को पछाड़ा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र पुलिस ने घूसखोरी के मामले में आखिरकार राजस्व विभाग को पीछे छोड़ दिया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक साल 2019 में घूसखोरी के 867 मामलों में 1177 आरोपियों को रंगेहाथ पकड़ा है जिसमें सबसे ज्यादा 194 मामलों में 269 पुलिसवाले पकड़े गए हैं। आरोपियों से 54 लाख रुपए से ज्यादा की रकम भी जब्त की गई है। 190 मामलों और 259 आरोपियों के साथ घूसखोरी में हर साल अव्वल रहने वाला राजस्व विभाग दूसरे नंबर पर चला गया। 

पंचायत समिति 90 मामलों और 120 आरोपियों के साथ भ्रष्टाचार के मामले में तीसरे नंबर पर रहा। एसीबी ने साल 2019 में कुल 892 मामले दर्ज किए हैं जिनमें से 867 मामलों में घूसखोर रंगेहाथ पकड़े गए हैं जबकि आय से अधिक संपत्ति के 20 और भ्रष्टाचार से जुड़े 5 दूसरे मामले भी दर्ज किए गए हैं। यह आंकड़ा पिछले छह सालों में सबसे कम है। 

साल 2018 में राजस्व विभाग में सबसे ज्यादा 218 मामलों में 274 घूसखोर पकड़े गए थे जबकि 197 मामलों में 262 पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई हुई थी। साल 2017 में भी 207 मामलों और 278 आरोपियों के साथ घूसखोरी में राजस्व विभाग अव्वल था जबकि 170 मामलों और 222 आरोपियों के साथ पुलिस महकमा दूसरे नंबर पर था।

  
पुणे सबसे भ्रष्ट विभाग

विभागवार बात करें तो बीते साल भी घूसखोरी के मामले में पुणे 187 मामलों और 262 आरोपियों के साथ सबसे भ्रष्ट विभाग साबित हुआ है। नाशिक 127 मामलों और 172 आरोपियों के साथ दूसरे नंबर पर रहा। जबकि औरंगाबाद 125 मामलों और 181 आरोपियों के साथ तीसरे क्रमांक पर है। जबकि नागपुर 115 मामलों और 148 आरोपियों के साथ चौथा सबसे भ्रष्ट विभाग बना है। साल 2018 में 136 मामलों के साथ नागपुर दूसरा सबसे भ्रष्ट विभाग था। वहीं मुंबई लगातार सबसे कम भ्रष्ट विभाग बना हुआ है साल 2019 में यहां 41 मामलों में 55 घूसखोर पकड़े गए।

रंगे हाथ पकड़े गए घूसखोर

साल    पुलिस विभाग  राजस्व विभाग    कुल मामले       बरामद रकम
      
2019       194           190                  867               18393435

2018       197           218                  891               44408378      

2017       170           207                  875               22116954


50 हजार की रिश्वत लेते पुलिस उपनिरीक्षक, पुलिस कर्मी गिरफ्तार

उधर ताजा मामला पुणे का है, जहां अंतरिम जमानत दिलवाने के लिए शिकायतकर्ता से 50 हजार की रिश्वत लेते हुए पुलिस उपनिरीक्षक तथा पुलिस कर्मी को एंटी करप्शन ब्युरो ने रंगेहाथ पकड़ा। कार्रवाई रविवार देर रात बारामती में की गई। पुलिस ने बताया कि बालासाहेब भीमराव जाधव (54), अजिंक्य लहू कदम (28) को गिरफ्तार किया गया है। जाधव बारामती तहसील पुलिस थाने में बतौर पुलिस उपनिरीक्षक तथा कदम पुलिस कर्मी के तौर पर कार्यरत हैं। पुलिस थाने में शिकायतकर्ता के भाई पर एक मामला दर्ज हुआ था। इस मामले में उसे अंतरिम जमानत दिलवाले के लिए मदद करेंगे ऐसा कहकर जाधव ने शिकायतकर्ता से 1 लाख रूपए मांगे थे। चर्चा कर 50 हजार रूपए देने का तय हुआ। बारामती शहर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है।  
 

कमेंट करें
EFbXV