दैनिक भास्कर हिंदी: मनपा स्वास्थ्य विभाग का दावा : संक्रमित के संपर्क में आए अधिकतर लोगों की हुई जांच

April 1st, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मनपा का स्वास्थ्य विभाग ने दावा किया है कि शहर के विभिन्न अस्पताल, डायग्नोसिस सेंटर में जरीपटका के कोराेना संक्रमित के संपर्क में आए लोग की पहचान की जा चुकी है और 95 फीसदी लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। विभाग के नोडल अधिकारी डॉ प्रवीण गंटावार ने बताया कि टीम और लोगों की पहचान में जुटी है। उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने की मुहिम के तहत मनपा के स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को जरीपटका स्थित जनता हाॅस्पीटल, शंकर नगर स्थित धांडे पैनोरमा एमआरआई सेंटर, रामदासपेठ स्थित रेनबो मेडिनोवा डायग्नोसिस सेंटर को सील कर दिया है। इसके साथ ही मेडिकल के वार्ड नंबर 36 को सेनिटाइज करने और सील करने का आदेश दिया है। यह आदेश जरीपटका के कोरोना संक्रमित के बीमार भाई के इन स्थानों पर जाने के मद्देनजर दिया था। लकवा का अटैक आने के बाद उसे जनता हॉस्पीटल के आईसीयू में भर्ती किया गया था। फिर उसे जांच के लिए पैनोरमस सेंटर ले जाया गया और बाद में उसे मेडिकल के वार्ड नंबर 36 में भर्ती किया गया था। इम्प्रेस सिटी के कोरोना मरीज भी जांच के लिए रेनबो मेडीनोवा सेंटर गया था। इन सभी जगहों से डॉक्टर, नर्स, पैथोलॉजिस्ट समेत. लोगों के सैंपल जांच के लिए लिये गए हैं और क्वांटाइन किया गया है।
 
बगैर सुरक्षा के हुआ उपचार और जांच

कलमना के जूता व्यापारी के साथ काम करने वाले पॉजिटिव पाए गए जरीपटका के व्यक्ति के भाई को उसके संक्रमण की खबर सुनकर लकवा को अटैक आया था। उसके परिजनों ने उसे अस्पताल ले गए लेकिन उन्होंने यह खुलासा नहीं किया कि उनके परिवार में एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित है। उसे 26 मार्च को शाम में जनता हॉस्पीटल में भर्ती किया गया था। 26 मार्च को रात में उसे जांच के लिए शंकरनगर स्थित पैनोरमा सें टर ले जाया गया था। उसके बाद उसे मेडिकल शिफ्ट किया गया था। जनता हॉस्पीटल में संक्रमित व्यक्ति कैज्यूलिटी, ईसीजी और आईसीयू में गया था।
 
मेडिकल में अब भी है वार्ड 36 में मरीज

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मेडिकल में वार्ड नंबर 36 में अब भी मरीज हैं। वार्ड को सेनिटाइज किया गया है लेकिन मरीजों को दूसरे वार्ड शिफ्ट नहीं किया गया है और न ही वार्ड को सील किया गया है।
 

खबरें और भी हैं...