दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर के भांडेवाड़ी जैसा प्रकल्प मैसूर में संचालित करेगी मनपा

December 31st, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर । कर्नाटक के मैसूर शहर के महापौर पुष्पलता जगन्नाथ, उपमहापौर शफी अहमद, जिलाधिकारी अभिराम शंकर, आयुक्त गुरुदत्त हेगडे ने सोमवार को नागपुर पहुंचे। मैसूर के शिष्टमंडल ने भांडेवाड़ी में शुरू किए गए ‘बायो रिमेडिएशन’ प्रकल्प का निरीक्षण किया। प्रकल्प संदर्भ में मनपा उपअभियंता राजेश दुफारे ने प्रस्तुतिकरण दिया। झिग्मा ग्लोबल एनवॉन्स सोल्यूशन प्रा. लि. के संचालक नागेश प्रभु ने प्रकल्प की जानकारी दी। भांडेवाड़ी में नागपुर महानगरपालिका द्वारा 53 एकड़ में प्रकल्प कार्यान्वित किया जा रहा है। भांडेवाड़ी में कचरे पर प्रक्रिया करने वाला यह प्रकल्प है। कचरे में कांच, लोहा, टायर आदि पर पुनर्प्रक्रिया की जाती है। मिट्टी, पत्थर अलग किए जाते है। अन्य कचरे पर प्रक्रिया कर वह कचरा आरडीएफ सीमेंट कंपनी को दिया जाता है। संपूर्ण प्रकल्प में से तीन एकड़ में कचरे पर प्रक्रिया करने का काम होने की जानकारी दी। 

मैसूर महानगरपालिका के आयुक्त गुरुदत्त हेगड़े ने बताया कि मैसूर शहर की जनसंख्या करीब 10 लाख है। महानगरपालिका में 65 नगरसेवक प्रतिनिधित्व करते हैं। शहर में लगभग 2 लाख टन कचरा 17 से 20 एकड़ में है। स्वच्छ सर्वेक्षण में मैसूर शहर तीसरे क्रमांक पर है। कचरे का व्यवस्थापन और प्रक्रिया संदर्भ में अलग-अलग शहरों में अभ्यास दौरा किया है। नागपुर शहर में चलाए जा रहे ‘बायो रिमेडिएशन’ प्रकल्प अन्य शहर के प्रकल्पों में से उत्तम है। आयुक्त हेगडे ने कहा कि उक्त प्रकल्प मैसूर शहर में क्रियान्वित हो, इसके लिए कार्यवाही की जाएगी। प्रकल्प संबंधित प्रशासकीय व कानूनी विषयों के बारे में भी चर्चा की गई। इससे पहले महापौर कक्ष में महापौर संदीप जोशी ने सभी अतिथि सहित शिष्टमंडल का तुलसी पौधा देकर स्वागत किया। शहर के प्रकल्प संदर्भ में चर्चा की। आयुक्त कक्ष में आयुक्त अभिजीत बांगर ने सभी अतिथियों से संवाद साधा। शिष्टमंडल में मैसूर के महापौर, उपमहापौर, जिलाधिकारी, आयुक्त सहित मैसूर महानगरपालिका के वित्त समिति सभापति शोभा, स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जयनाथ एम.एस, स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. डी.जी. नागराज शामिल थे।