comScore

खुले स्थान में पेशाब करने व थूकने वालों से दोगुना जुर्माना वसूलेगी मनपा

खुले स्थान में पेशाब करने व थूकने वालों से दोगुना जुर्माना वसूलेगी मनपा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शहर में गंदगी करने वालों के खिलाफ मनपा ने सख्त तेवर अपनाए हैं। आयुक्त अभिजीत बांगर शहर की छवि खराब करने वालों को बख्शने के मूड में नहीं हैं। यही कारण है कि उन्होंने शहर में सार्वजनिक स्थानों पर लघुशंका करने और थूकने वालों के खिलाफ जुर्माने को दोगुना कर दिया है। खुले में लघुशंका करने वालों को अब 500 रुपए देना पड़ेगा। पहले यह शुल्क 200 रुपए था। इसी तरह सार्वजनिक जगह या दीवारें थूककर गंदा करने वालों को 200 रुपए दंड भरना होगा। पूर्व में यह शुल्क 100 रुपए था। तत्काल प्रभाव से बढ़ी हुई जुर्माने की राशि लागू भी कर दी गई है। इससे विवाद भी सामने आने शुरू हो गए हैं। 

अगले वर्ष होना है स्वच्छता का सर्वेक्षण
अगले वर्ष जनवरी-फरवरी में शहर में स्वच्छता सर्वेक्षण होना है। इसके लिए केंद्र सरकार की एक टीम आएगी। शहर स्वच्छता मामले में चोटी पर पहुंचने के बजाय लगातार पीछे आ रहा है। इन दिनों कचरे की जो समस्या शहर में बनी हुई है, वह स्वच्छता रैंकिंग के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। इस समस्या का अभी तक समाधान नहीं हुआ है। जहां-तहां कचरे के ढेर लगे हुए दिखाई दे रहे हैं। हालांकि अधिकारी दावा कर रहे हैं कि अगले चार-पांच दिनों में समस्या का पूरी तरह समाधान हो जाएगा। दावा यह भी है कि मनपा आयुक्त अभिजीत बांगर स्वच्छता को लेकर किसी तरह की कोताही बरतने के पक्ष में नहीं हैं। यही कारण है कि वे एक दिसंबर से शहर में गीला-सूखा कचरा वर्गीकरण अनिवार्य करने जा रहे हैं। कचरे की समस्या के बीच सार्वजनिक स्थानों पर लघुशंका और थूकने वाले भी स्वच्छता रैंकिंग में बड़ी बाधा बन रहे हैं। इसलिए आयुक्त ने लघुशंका और थूकने वालों के खिलाफ जुर्माने को दोगुना कर दिया है। हाल ही में मनपा स्वास्थ्य विभाग के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुनील कांबले ने सभी जोन आयुक्त और एनडीएस प्रमुख को आदेश-पत्र जारी कर जुर्माने की राशि बढ़ाने की जानकारी दी है, जिसके बाद शहर में यह नया दर लागू हो गया है। लघुशंका पर जुर्माना 200 से बढ़ाकर 500 रुपए और थूकने पर 100 के बजाय 200 रुपए जुर्माना किया गया है। 

खूब हो रहे विवाद
 एनडीएस द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर लघुशंका और थूकने वालों पर कार्रवाई करने से अनेक विवाद भी सामने आ रहे हैं। हाल में एनडीएस ने खुले में लघुशंका करने वाले के खिलाफ कार्रवाई की। संबंधित व्यक्ति ने इसे लेकर एनडीएस से जमकर विवाद किया। उसका कहना था कि जब मनपा ने जगह-जगह व्यवस्था नहीं की है, तो वे कहां जाएं। मजबूरी में उन्हें खुली जगह का सहारा लेना पड़ा। एक व्यक्ति पर कार्रवाई की गई, तो उसके जेब में एक पैसा नहीं था। वह किसी झोपड़पट्टी का रहना वाला था। पकड़े जाने के बाद उसने हाथ खड़े कर दिए और कहा कि जो करना है कर लें। कार्रवाई के दौरान ऐसी अनेक दिक्कतों का भी सामना एनडीएस को करना पड़ रहा है। 

4 लाख से अधिक की कमाई हुई 
न्यूसेंस डिटेक्शन स्क्वॉड (एनडीएस) ने सार्वजनिक स्थानों पर  लघुशंका और थूकने वालों के खिलाफ बड़े पैमाने पर कार्रवाई की है। दिसंबर 2017 से अब तक लघुशंका करने और थूकने वालों से 4 लाख रुपए से अधिक का दंड वसूला गया है। थूकने के मामले में 1517 लोगों पर कार्रवाई कर उनसे 1 लाख 57 हजार 900 रुपए का जुर्माना वसूल किया गया है। इसी तरह लघुशंका करने वाले 1614 लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर 2 लाख 74 हजार 700 रुपए वसूल किए गए हैं। 

कमेंट करें
miGl5