• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Ministry of Railways, Railways has successfully completed the 800-meter challenging tunnel campaign in Kolkata, following the covid protocol!

दैनिक भास्कर हिंदी: रेल मंत्रालय रेलवे ने कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कोलकाता में 800 मीटर के चुनौतीपूर्ण सुरंग अभियान को सफलतापूर्वक पूरा किया!

May 17th, 2021

डिजिटल डेस्क | रेल मंत्रालय रेलवे ने कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कोलकाता में 800 मीटर के चुनौतीपूर्ण सुरंग अभियान को सफलतापूर्वक पूरा किया कल कोलकाता के बोबाज़ार में "उर्वी" की सफलता के साथ ही ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरीडोर पर टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) से सुरंग बनाने का काम पूरा इस सफलता के साथ, ईस्ट वेस्ट मेट्रो परियोजना के लिए संपूर्ण टीबीएम टनलिंग का काम पूरा इस मार्ग पर सुरंग निर्माण का कार्य बहुत कठिन था क्योंकि इसमें सदियों पुरानी इमारतें थीं| कोलकाता के बोबाजार में "उर्वी" की सफलता के साथ ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर में टनल बोरिंग मशीन [टीबीएम] द्वारा सुरंग निर्माण का काम 15 मई 2021को पूरा हुआ। इस सफलता के साथ कोलकाता ईस्ट-वेस्ट मेट्रो परियोजना के लिए टीबीएम से सुरंग बनाने का काम पूरा हो गया है।

इस मार्ग पर सुरंग निर्माण का काम मुश्किल था क्योंकि इसमें सदियों पुरानी इमारतें थीं। कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए 800 मीटर चुनौतीपूर्ण सुरंग अभियान को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है। टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) ‘उर्वी’ ने पिछले साल 9 अक्टूबर 2020 को एस्प्लेनेड से सियालदह तक ईस्ट बाउंड टनल को पूरा किया था और शेष 800 मीटर को पूरा करने के लिए 9 जनवरी 2021 को आवश्यक नवीनीकरण और निरीक्षण के बाद सियालदह से फिर से लॉन्च किया गया था। सुरंग बनाने का अभियान बोबाजार में रिट्रीवल शाफ्ट में टनल बोरिंग मशीन की सफलता साथ ही कल 15 मई 2021 को पूरा कर लिया गया है।

यह टीबीएम सियालदह फ्लाईओवर के नीचे से भी गुजर चुका है, जिसके लिए सुरक्षा कारणों से फ्लाईओवर पर वाहनों की आवाजाही तीन दिनों के लिए बंद कर दी गई थी। इस टीबीएम ड्राइव के पूरा होने के बाद, टनल बोरिंग मशीन ‘उर्वी’ अन्य रुकी हुई टीबीएम ‘चंडी’ के साथ बोबाजार में इस रिट्रीवल शाफ्ट से प्राप्त की जाएगी। शाफ्ट की वॉटर टाइटनेस सुनिश्चित करने के बाद शाफ्ट की खुदाई और प्रभावित सुरंग और टीबीएम की पुनर्प्राप्ति जटिल गतिविधियाँ हैं जिन्हें सुरक्षित रूप से किया जाना है और इसलिए इसमें समय लगेगा। पूरी खुदाई पूरी होने के बाद दोनों टीबीएम को शाफ्ट से टुकड़ों में निकाला जाएगा। सारी खुदाई पूरी होने के बाद दोनों टीबीएम को शाफ्ट से टुकड़ों में वापस लाया जाएगा। इसके बाद शाफ्ट एरिया के लिए आरसीसी फ्लोरिंग और छत का काम पूरा कर लिया जाएगा और ओवरग्राउंड कंस्ट्रक्शन के लिए ग्राउंड तैयार करने के लिए शाफ्ट टॉप को बैकफिल किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...