दैनिक भास्कर हिंदी: 13 हजार से ज्यादा कैदियों को लगाया जा चुका है कोरोना से बचाव का टीका

June 24th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य के जेलों में बंद 13 हजार से ज्यादा कैदियों को कोरोना संक्रमण से बचाव के टीके लगाए जा चुके हैं। इसके साथ उठाए गए एहतियाती कदमों के चलते जेलों में कोरोना संक्रमण की दर काफी कम हो गई है। राज्य सरकार ने गुरूवार को हाईकोर्ट में यह जानकारी दी। एडवोकेट जनरल आशुतोष कुंभकोणी ने मामले की सुनवाई कर रही न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जीएस कुलकर्णी की खंडपीठ को जानकारी दी कि राज्य की 47 जेलों में फिलहाल 23 हजार 372 कैदी हैं। इनमें से 13 हजार 567 कैदियों को कोविड रोधी टीके लगाए जा चुके हैं। इसके अलावा जेलों में तैनात 3641 कर्मियों को भी टीके दिए गए हैं। कुंभकोणी ने अदालत को बताया कि कारागार विभाग ने राज्य सरकार की उच्चाधिकार समिति ने जेलों में भीड़ कम करने से जुड़े जो सुझाव दिए थे उस पर अमल करते हुए 2700 कैदियों को अंतरिम जमानत पर जबकि 518 कैदियों को आपात पैरोल पर रिहा किया जिससे जेलों में भीड़ कुछ हद तक कम हुई। साथ ही टीकाकरण के चलते जेलों में कोरोना संक्रमण के मामलों में काफी गिरावट आई है। खंडपीठ जेलों में बंद कैदियों में कोरोना संक्रमण से जुड़ी जनहित याचिका की सुनवाई कर रही थी। सुनवाई के दौरान खंडपीठ ने इस बात का संज्ञान लिया कि जेलों में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए उठाए गए कदमों के चलते स्थिति में काफी सुधार हुआ है। मामले पर अगली सुनवी 22 जुलाई को होगी। 
मास्क न पहनने वालों पर 58 करोड़ का जुर्माना

जहां एक ओर प्रशासन कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी कर रहा है वहीं लोगों की लापरवाही खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। मुंबई महानगर में मास्क न पहनने वालों से अब तक 58 करोड़ रुपए से ज्यादा का जुर्माना वसूला जा चुका है। बता दें कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखने के बाद विशेषज्ञों की सलाह के चलते बीएमसी ने पिछले साल अप्रैल महीने में सार्वजनिक ठिकानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया था। ऐसा न करने वालों से 200 रुपए जुर्माना वसूलने का प्रावधान किया गया। महानगर पालिका द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक नियम लागू होने के बाद से 23 जून 2021 तक यानी कुल 449 दिनों में मुंबई महानगर पालिका ने बिना मास्क घूमने वालों से 50.29 करोड़, मुंबई पुलिस ने 7.6 करोड़ और रेलवे 50 लाख 39 हजार रुपए जुर्माना वसूल चुके हैं। लोगों से कुल मिलाकर 58 करोड़ 42 लाख 99 हजार 600 रुपए जुर्माना वसूला गया है।