दैनिक भास्कर हिंदी: पिंपरीचिंचवड़ से नाबालिग को अगवा करने वाला बदमाश उल्हासनगर में गिरफ्तार

November 5th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। पिंपरी चिंचवड इलाके से 16 साल की नाबालिग को अगवा कर भागे एक आरोपी को ठाणे के उल्हासनगर से गिरफ्तार किया गया है। पकड़ा गया 25 वर्षीय आरोपी कुख्यात मामा गैंग के जुड़ा हुआ है। उसके खिलाफ पिंपरी चिंचवड में संगठित अपराध विरोधी कानून मोका समेत कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। गिरफ्तार आरोपी का नाम सुरेश उर्फ रमेश उर्फ अण्णा खचप्पा उर्फ अहिवले है। चिंचवड के वेताल नगर का रहने वाला रमेश 30 अक्टूबर को 16 साल की लड़की को अगवा कर भागा था। लड़की के माता-पिता की शिकायत पर पिंपरी-चिंचवड पुलिस ने उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 363 के तहत अपहरण का मामला दर्ज किया था। इसी बीच ठाणे पुलिस की अपराध शाखा को इस बात की भनक लगी कि आरोपी उल्हासनगर के शहाड इलाके में है। इसके बाद सीनियर इंस्पेक्टर महेश तरडे की अगुआई में पुलिस ने जाल बिछाकर आरोपी को दबोच लिया और नाबालिग को उसके चंगुल से छुड़ा लिया। रमेश पिंपरी चिंचवड के कुख्यात मामा गैंग का सदस्य है। पुणे के पिंपरी, देहूरोड और सांगवी पुलिस स्टेशनों में उसके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। रमेश संगठित अपराध विरोधी कानून मोका के आरोपों में भी वांछित था। पुलिस के मुताबिक मामा गैंग चलाने वाले आकाश रणदिवे का रमेश करीबी है। रणदिवे फिलहाल येरवडा जेल में बंद है। आरोपी को पिंपरी चिंचवड पुलिस के हवाले कर दिया गया है जबकि नाबालिग लड़की को उसके परिजनों को सौंप दिया गया है।

 

युवक की गोली मारकर हत्या

पुरानी रंजिश के चलते एक 22 वर्षीय युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वारदात ठाणे जिले के उल्हासनगर इलाके में सोमवार देर रात हुई। भरत लश्कर नाम के युवक को उस वक्त गोली मारी गई जब वह अपने एक दोस्त के साथ मोटर साइकल पर घर लौट रहा था। विठ्ठलवाडी पुलिस ने अभिजीत बोकडे, कृष्णा कुंभार, सलीम और उदय भाटकर नाम के चार आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।  

 

नकली बंदूक दिखाकर धमकाने वाले गिरफ्तार

नकली बंदूक दिखाकर मोटरसाइकल सवार को धमकाने वाले दो आरोपियों को चारकोप पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने सोमवार रात 10 बजे ओवरटेक करने को लेकर हुए विवाद के बाद खिलौना बंदूक दिखाकर धमकाने की कोशिश की थी। गिरफ्तार आरोपियों के नाम अमित चौहान और विराज चव्हाण हैं। दोनों कार में सवार होकर चारकोप इलाके से गुजर रहे थे। इसी दौरान सामने चल रहे मोटर साइकल सवार को रास्ता देने के लिए उन्होंने बार-बार हॉर्न बजाना शुरू कर दिया। जगह मिलने पर मोटर साइकल सवार ने रास्ता दिया तो दोनों आरोपियों ने उसे बंदूक दिखाकर धमकाने की कोशिश की। इसके बाद विवाद हुआ तो आसपास के लोगों ने मोटर साइकल सवार की मदद की और आरोपियों को दबोच लिया। आरोपियों को बाद में पुलिस के हवाले कर दिया। छानबीन में पता चला कि आरोपियों ने जो बंदूक दिखाई थी दरअसल वह दीपावली में पटाखे फोड़ने वाली थी। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

 

जबरन उगाही के आरोप में नकली पुलिस वाले गिरफ्तार

खुद को पुलिसवाला बताकर लोगों से लूटपाट करने वाले दो आरोपियों को मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने दो साल पहले घाटकोपर इलाके में एक एसटी बस ड्राइवर से लूटपाट की थी। आरोपियों ने खुद को पुलिसवाला बताकर बस ड्राइवर को अपनी कार में बिठा लिया था और फिर धमकाकर उसका मोबाइल फोन, नकदी, एटीएम कार्ड और पासवर्ड ले लिया था। पूछताछ में खुलासा हुआ है कि आरोपियों के खिलाफ और कई मामले दर्ज हैं। 


 

खबरें और भी हैं...