comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

ठाणे-नई मुंबई को दिया जा रहा है मुंबई का ऑक्सिजन, महानगरपालिकाओं के बीच खींचतान

ठाणे-नई मुंबई को दिया जा रहा है मुंबई का ऑक्सिजन, महानगरपालिकाओं के बीच खींचतान

डिजिटल डेस्क, मुंबई। ऑक्सीजन की कमी के चलते राज्य की अलग-अलग महानगर पालिकाओं में भी इसके लिए खींचतान शुरू हो गई है। मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) की ओर से दावा किया गया है कि मुंबई के हिस्से का तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन (एलएमओ) नई मुंबई और ठाणे को दिया जा रहा है। इसके चलते मुंबई के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो गई है। बीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त पी वेलरासु ने गड़बड़ी रोकने के लिए नई मुंबई स्थित दो कंपनियों के रिफिलिंग केंद्रों पर उपजिलाधिकारी और तहसीलदार की तैनाती की भी मांग की है जिससे मुंबई महानगर क्षेत्र में ऑक्सीजन की सुचारु आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने इसके लिए कोकण के संभागीय आयुक्त अन्नासाहेब मिसाल के साथ एफडीए अधिकारियों को भी पत्र लिखा है। वेलरासू के मुताबिक ऑक्सीजन की कमी के चलते कई बार अस्पतालों से आपातकालीन संदेश मिले और कई बार मरीजों को एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल ले जाना पड़ा।

बता दें कि कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन की भारी मांग है। इसीलिए मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) के मुंबई, ठाणे, नई मुंबई और दूसरे इलाकों के लिए कोटा तय कर दिया गया है। वेलरासु के मुताबिक कई बार देखा गया कि सप्लायर ने मुंबई के हिस्से की ऑक्सीजन ठाणे और नई मुंबई में भेज दी गई। निर्धारित कोटे का 50 फिसदी हिस्सा ही मुंबई को मिल पा रहा है। बीएमसी की मांग है कि उसे निर्धारित कोटे के मुताबिक ऑक्सीजन मिलनी चाहिए। पत्र में बीएमसी अधिकारी ने कहा कि अगर महानगर को उसके कोटे की ऑक्सीजन मिलती हैं तो मरीजों की जान बचाई जा सकती है।

कमेंट करें
K3C98