दैनिक भास्कर हिंदी: आईपीएस की बैठक में शामिल होने वाला नगर निगम इंजीनियर भी कोरोना पॉजिटिव -कटनी में पहला और शहडोल में तीसरा मरीज मिला

April 30th, 2020

डिजिटल डेस्क जबलपुर । पुलिस और जिला प्रशासन के बाद अब कोरोना वायरस की दस्तक नगर निगम अमले पर भी हो गई है। बुधवार की रात आई रिपोर्ट में निगम के गढ़ा जोन में पदस्थ संभागीय यंत्री कृष्णा रावत पॉजिटिव पाए गए। दूसरी ओर शहर में कोरोना संक्रमण का बड़ा केंद्र बना चाँदनी चौक हनुमानताल से कोरोना पीडि़तों का आना जारी है। बुधवार को यहाँ के पाँच लोग जिनमें एक 8 साल का बच्चा भी है संक्रमित पाए गए।  इन सभी को पिछले कुछ दिनों से सुखसागर अस्पताल के आइसोलेशन सेंटर में रखा गया था। 5 नए मरीजों के मिलने से जिले में पीडि़तों का आँकड़ा 84 पहुँच गया है।  चाँदनी चौक के पाँचों पॉजिटिव मरीज 20 अप्रैल को निधन के बाद पॉजिटिव आईं शायदा बेगम 63 के परिजन व पड़ोसी हैं। नागपुर में कोरोना पॉजिटिव पाए गए शहर के रहने वाले 8 जमातियों को स्वस्थ होने के बाद यहाँ भेजा गया है, इनको भी सुखसागर आइसोलेशन सेंटर में भर्ती किया गया है। बुधवार को 149 सैंपल की जाँच में 6 पॉजिटिव आए हैं। 
संक्रमित आईपीएस की बैठक में थे शामिल- 
जानकारी के अनुसार भड़पुरा रांझी निवासी उपयंत्री कृष्णा रावत(32) अभी गढ़ा संभागीय यंत्री का काम देख रहे थे। कुछ दिनों पहले सीएसपी रोहित काशवानी द्वारा आयोजित बैठक में वे शामिल हुए थे। काशवानी के पॉजिटिव आने के बाद उनका सैंपल लिए गया था, वे पिछले 4 दिनों से घर में ही क्वारेंटीन थे। उनके साथ जोन अधिकारी अंकिता जैन का भी टेस्ट हुआ था जिसकी रिपोर्ट निगेटिव है। बताया गया कि सीएसपी काशवानी पिछले 15 दिनों में अंकिता जैन और कृष्णा के साथ ही दूसरे निगम अमले से दो बार मिले थे। 15 दिन पहले बैरिकेडिंग के सिलसिले में और 8 दिन पहले भोजन के संबंध में जोन में हुई बैठक में। यंत्री भोजन का काम देखते थे और शनिवार तक काम पर आए। 
जमातियों की हुई सैंपलिंग-  
नागपुर में संक्रमित पाए गए मदीना मस्जिद गोहलपुर के 7 तथा एक उमरिया निवासी जमाती को वहाँ से उपचार के बाद स्वस्थ होने पर जबलपुर भेजा गया। नागपुर से एक बस द्वारा यहाँ आए जमातियों की विक्टोरिया अस्पताल में सैंपलिंग हुई। पहले से सूचना नहीं मिलने के कारण उन्हें क्वारेंटीन के लिए कहाँ रखा जाए प्रशासन इस बात पर उलझा रहा, बाद में सभी को सुखसागर अस्पताल में भर्ती कराया गया।
8 साल का बच्चा भी पीडि़त 
20 अप्रैल को स्व. शायदा बेगम के संक्रमित होने का पता चलने के बाद उनके परिवार के सदस्यों सहित अंतिम संस्कार में शामिल लोगों को निगरानी में लिया गया। सबसे पहले तो इनका 10 साल का पोता संंक्रमित हुआ, उसके बाद अन्य परिजन व पड़ोसियों के पीडि़त होने का सिलसिला शुरू हुआ जो अभी तक जारी है। बुधवार को यहाँ रहने वाले मुशाहिद अजीज(8), फरहीन अहमद(21), अकील अहमद(35), नसरुद्दीन अंसारी(42) और मोहम्मद शहादत(60) कोरोना संक्रमित पाए गए। इनको सुखसागर अस्पताल आइसोलेशन सेंटर से कोविड-19 हॉस्पिटल सुपर स्पेशिएलिटी भेजा गया है।
कोरोना का कटनी में पहला और शहडोल में तीसरा मरीज मिला
 बुधवार को कटनी में पहला और शहडोल में तीसरा संक्रमण का मामला सामने आया। सिहोरा के दरौली खुर्द गांव निवासी सीता सिंह (40) सर्दी-खांसी से पीडि़त थी। सीता इलाज कराने भाई के पास कटनी गई थी। उसे 26 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती किया गया। बुधवार को रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। इलाज करने वाले डॉ. अभिषेक सिंह, अन्य स्टाफ व महिला के भाई और पति समेत परिवार के तीन सदस्यों व दरौली स्थित गांव में उसके बेटे व बेटी को होम क्वारेंटाइन करा दिया गया है। वहीं, शहडोल में ब्यौहारी जनपद के पपौंध थानांतर्गत ग्राम उदरी निपनिया निवासी कुवरिया (60) पॉजिटिव आई। जिले में तीन दिन में तीन मरीज सामने आए।