दैनिक भास्कर हिंदी: वर्धा से मर्डर कर नागपुर में छिपकर बैठे आरोपी को पुलिस ने दबोचा, जानिए- क्राइम में कहां क्या हुआ

August 29th, 2019

डिजिटल डेस्क,नागपुर। वर्धा से हत्या कर भागे एक आरोपी को नागपुर के हुडकेश्वर क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है । आरोपी का नाम  पप्पू तुमडाम है। यह आरोपी उदय नगर के पास आदिवासी नगर में अपने रिश्तेदार के घर में छुप कर बैठा हुआ था । इस बारे में हुड़केश्वर पुलिस को गुप्त सूचना मिली उसके बाद   पुलिस ने  आरोपी के परिचित के घर में जाकर आरोपी पप्पू  को धर दबोचा। आरोपी को वर्धा पुलिस के हवाले कर दिया गया है। सूत्रों के अनुसार 28 अगस्त को हुडकेश्वर के सिपाही विलास को गुप्त जानकारी मिली थी कि  वर्धा शहर में 27 अगस्त को हत्या कर भागा   आरोपी पप्पू तुमड़ाम को आदिवासी नगर उदय नगर में  कोवे के घर में छिप कर  बैठा है । तब सिपाही ने वरिष्ठ अधिकारियों को जानकारी दी। हुड़केश्वर पुलिस ने आरोपी को राम नगर वर्धा पुलिस के हवाले कर दिया है । वर्धा के रामनगर एरिया में यह आरोपी हत्या कर फरार हुआ था। नागपुर के उपआयुक्त परि क्र 4 के उपयुक्त निर्मलादेवी के आदेश पर कार्रवाई की गई । यह कार्रवाई हुडकेश्वर थाने के पीएसआई   प्रफुल गाडेकर,   हेड कांस्टेबल मनोज , सहित अश्विन, चंद्रशेखर, प्रफुल, विलास ने की है।

 

ट्रैवल्स एजेंसी के संचालक को लगाया 40 हजार रुपए का चूना

उधर जरीपटका क्षेत्र में रहने वाले एक ट्रैवल्स एजेंसी संचालक को 40 हजार रुपए का चूना लगा दिया गया, इस रकम में से 5 हजार रुपए जामतारा झारखंड के एक एटीएम सेंटर से निकाले जाने की जानकारी सामने आई है। उन्होंने मेक माई ट्रिप कंपनी द्वारा पुणे से कोल्हापुर जाने के लिए बस यात्रा की ऑन लाइन टिकिट बुकिंग की थी। यह बुकिंग उन्होंने जुलाई माह में की थी। पुलिस सूत्रों के अनुसार प्लाॅट नं 103, महालक्ष्मी अपार्टमेंट, नारा रोड, नागपुर निवासी ज्ञानचंद्र मुरलीधर हेमनानी (51) ने गत 9 जुलाई 2019 को अपने मोबाइल से मेक माई ट्रिप कंपनी की बेवसाइट से पुणे से कोल्हापुर जाने के लिए बस की टिकीट ऑन लाईन बुक किया था। ज्ञानचंद्र का खुद का ट्रैवल्स एजेंसी का कारोबार है। इसलिए उन्हें ऑन लाइन टिकट के बारे में अच्छी तरह से मालूमात है। किसी कारणवश उन्होंने टिकट रद्द कर दिया। टिकट रद्द करने पर उन्हें रकम वापस नहीं मिली। रकम वापस मिलने के लिए उन्होंने 19 जुलाई 2019 को मेक माई ट्रिप कंपनी के केयर कस्टमर को फोन किया। तब उन्हें कंपनी ने अलग- अलग मोबाईल से दो लिंक भेजे जाने के बारे में जानकारी दी। कंपनी के संबंधित अधिकारियों द्वारा यह जानकारी दिए जाने पर उन्होंने उनकी बातों पर यकीन पर उस दोनों लिंक पर लिंक भेज दिया। लिंक भेजने के बाद ज्ञानचंद्र ने बैंक ऑफ बडोदा शाखा जरीपटका नागपुर से 40,000 रूपए ऑन लाईन यूपीआई द्वारा निकाल लिया गया, इसमें से 5 हजार रूपए जामतारा झारखंड स्थित एटीएम से निकाला गया। पुलिस ने मामले की छानबीन की। उसके बाद जरीपटका थाने के हवलदार कमलाकर ने धारा 420 व सहधारा 66(ड) आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है।