comScore

थाने पहुंचा रुमाल चोरी का मामला, दूसरे मामले में मंत्री राऊत का स्वागत करने पहुंचे दो दोस्तों ने की चोरी

थाने पहुंचा रुमाल चोरी का मामला, दूसरे मामले में मंत्री राऊत का स्वागत करने पहुंचे दो दोस्तों ने की चोरी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सुनने में भला ही अटपटा लगे, लेकिन यह सच है। मंगलवार को एक व्यक्ति सदर थाने में अपना रुमाल चोरी होने की शिकायत लेकर पहुंचा। रुमाल चोरी अथवा गुम होने की आशंका व्यक्त करते हुए इसका दुरुपयोग करने की आशंका व्यक्ति ने जताई की है। शहर पुलिस के इतिहास में संभवत: इस प्रकार का यह पहला मामला है, जो थाने तक पहुंचा है। पुलिस ने प्रकरण दर्ज करने की जगह व्यक्ति को भगा दिया। फरियादी मनीष नगर स्थित महालक्ष्मी हाउसिंग सोसायटी निवासी हर्षवर्धन मंगलदास जिभे है। वह रेलवे में कार्यरत थे, लेकिन किसी कारण के चलते रेलवे ने उन्हें सेवानिवृत्त किया है। सोमवार को हर्षवर्धन रेलवे के डीआरएम ऑफिस में अपने मित्रों से मिलने गया था। उसी समय डीआरएम ऑफिस में उसका रुमाल कहीं गिर गया अथवा किसी ने जेब से चुरा लिया। हर्षवर्धन को लग रहा है कि, कोई व्यक्ति उसके रुमाल का दुरुपयोग कर सकता है। भविष्य में कहीं इसका खामियाजा न भगुतना पड़े। वह मंगलवार को पहले बेलतरोड़ी थाने में इसकी लिखित शिकायत लेकर पहुंचा। शिकायत सुनकर पुलिस को भी अटपटा लगा। क्योंकि पुलिस की सेवा इस तरह की शिकायत लेकर पहली बार ही कोई थाने पहुंचा  था। लिहाजा, पूछताछ के बाद उसे घटनास्थल सदर थाना क्षेत्र बताकर रवाना किया गया। पश्चात हर्षवर्धन सदर थाने पहुंचा। यहां पर भी उसने वाकया सुनाया, लेकिन हर्षवर्धन पुलिस की नजर में हंसी का पात्र बन गया। प्रकरण दर्ज नहीं किया गया है।

मंत्री राऊत के स्वागत के लिए पहुंचे दो दोस्तों ने की नकदी चोरी

उधर केबिनेट मंत्री डॉ. नितीन राऊत के स्वागत समारोह के दौरान हवाई अड्डा और उनके जरीपटका स्थित निवास के सामने कार्यकर्ताओें के नकदी और मोबाइल चोरी हो गए। इससे मची अफरा-तफरी के बीच आरोपियों को खोज निकाला गया और उनकी पिटाई कर उन्हें पुलिस को सौंप दिया गया। हालांकि, जरीपटका थाने में प्रकरण दर्ज नहीं किया गया है। घटना के तत्काल बाद सोनेगांव पुलिस सक्रिय हो गई। तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। मंगलवार को अदालत में पेश कर आरोपियों को रिमांड में लिया गया है। प्रकरण में और भी गंभीर खुलासे होने की संभावना है। राज्यमंत्री डॉ. नितीन राऊत शपथ विधि के बाद पहली बार सोमवार को उनका नागपुर आगमन हुआ। पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता बड़ी संख्या में उनका जंगी स्वागत करने के लिए डॉ.बाबासाहब अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा तथा उनके बेझनबाग स्थित निवास पर पहुंचे थे। कार्यकर्ताओं की भीड़ में चोर भी सक्रिय हो गए। हवाई अड्डे पर अजयकुमार श्रीचंद विश्वकर्मा (40), यादव नगर और उसका दोस्त अरविंद सिंह सुरजीत सिंह दिगवा (36) भी राज्यमंत्री का स्वागत करने पहुंचे थे। इसी दौरान अजयकुमार की जेब से 48 हजार और अरविंद के जेब से 7 हजार रुपए आरोपी जयेंद्र उर्फ जियालाल उर्फ कालू धनराज यादव (28), मेनन आमीर इकबाल लाखा (29), दोनों कामठी और उनके एक और साथी ने चुरा लिए, लेकिन उनकी इस करतूत को कार्यकर्ताओं ने देखते ही उन्हें धरदबोचा और उनकी पिटाई कर दी। इससे कुछ समय के लिए अफरा-तफरी और तनाव का माहौल बना रहा। पुलिस ने इन तीनों को अपने कब्जे में लेने के बाद सोनेगांव पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर तीनों को गिफ्तार किया। मंगलवार को उन्हें अदालत में पेश किया गया। अदालत ने तीनों को 6 दिसंबर तक रिमांड में भेज दिया है।

उधारी वसूलने डॉक्टर ने लिया तंत्र-मंत्र का सहारा, तीन के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज

वहीं पूजापाठ के जरिए उधारी वापस दिलाने का दावा कर एक डाक्टर को लाखों रुपए से चूना लगाया गया। मंगलवार को तीन आरोपियों के खिलाफ सदर थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है। घटित प्रकरण की महीनों तक चली जांच-पड़ताल के बाद भी आरोपी पुलिस के हाथ नहीं लग पाए। इससे सदर पुलिस की लापरवाही उजागर हुई है। कोराड़ी स्थित माया क्लीनिक के ऊपर दूसरे माले पर निवासरत पीड़ित दिलीप गौरीशंकर गुहा (71) पेशे से डॉक्टर है, जबकि आरोपी मधुकर गुरुजी नामक व्यक्ति उसका शुक्ला नामक पीए और विनोदकुमार सिंह है। डा. दिलीप ने िकसी को लाखों रुपए उधार दिए, लेकिन अब तक उन्हें उधारी वापस नहीं मिल सकी। इस बीच उन्हें बताया गया कि तंत्र-मंत्र के सहारे उधारी वसूल की जा सकती है और यह काम करने में मधुकर गुरुजी नामक व्यक्ति के माहिर होने की जानकारी दी। विनोद के जरिए डाक्टर गुहा गुरुजी और उसके पीए से िमले। गुरुजी ने डाक्टर से उधारी वसूलने की पूजा के लिए सोने की अंगूठी, सोने का लॉकेट और अन्य सामग्री लगने बात कही थी। इन सब सामग्री की कीमत करीब सवा चार लाख रुपए बताई गई थी। पूजा-पाठ होते ही सोने की अंगूठी और लॉकेट तथा उधारी की रकम भी डाक्टर को   वापस मिलने का झांसा दिया गया था। 

हुक्का पार्लर पर छापा

वहीं सदर पुलिस ने मंगलवार की देर रात हुक्का पार्लर पर छापा मारा। संभ्रात परिवार के युवाओं को नशे का सेवन करते हुए पकड़ा गया है। इससे कुछ समय के लिए अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। सदर थानांतर्गत कैनरा बैंक के कुछ ही अंतराल पर हुक्का पार्लर संचालित होने की भनक परिमंडल क्रमांक-2 की उपायुक्त विनिता शाहू को मिली थी। जिसके बाद परिसर को चारों ओर से घेर कर पुलिस ने छापा मारा। कार्रवाई के दौरान कुछ युवकों ने भागने का प्रयास किया, लेकिन चारों ओर से घेराबंदी होने से युवाओं को भागने का मौका नहीं मिला। पार्लर में अलग- अलग फ्लेवर के तंबाकू का नशा उपलब्ध कराया जा रहा था। समाचार लिखे जाने तक प्रकरण दर्ज होना बाकी था।


छत्तीसगढ़ शराब ले जाते एक पकड़ाया

स्टेट एक्साइज विभाग द्वारा मेडिकल चौक पर कार्रवाई करते हुए  मध्यप्रदेश में बनी शराब चार पहिया वाहन में छिपाकर पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ ले जा रहे एक आरोपी को गिरफ्तार किया। विभाग ने शराब व वाहन समेत 5 लाख 37 हजार का माल जब्त किया। स्टेट एक्साइज विभाग को मध्यप्रदेश में बनी शराब की नागपुर होते हुए तस्करी किए जाने की सूचना मिली। विभाग के दस्ते ने मेडिकल चौक के पास कार क्रमांक सीजी- 07, एमबी- 5621 को रोक कर तलाशी लेने पर  विस्की के 50  बॉक्स व देशी शराब के 20 बॉक्स मिले। जब्त शराब की कीमत 2 लाख 17 हजार 500 रुपए बताई जा रही है। मामले में  वाहन चालक आकाश रामप्रसाद मिश्रा, मध्यप्रदेश निवासी को गिरफ्तार किया गया। कार्रवाई को  स्टेट एक्साइज नागपुर के विभागीय उप आयुक्त मोहन वर्दे, अधीक्षक प्रमोद सोनोने के मार्गदर्शन व उपअधीक्षक ज्ञानेश्वरी आहेर व एस. एम. मिरकुले के नेतृत्व में निरीक्षक केशव चौधरी, एएसआई संजय मोरे, जवान समीर सईद, महिला जवान धनश्री डोंगरे, वाहन चालक उद्धव माली आदि ने अंजाम दिया। 

एटीएम लूटने का प्रयास असफल

बाजारगांव  में सोमवार की रात एटीएम लूटने वाले लुटेरों ने बाजारगांव के समीपस्थ  स्थित  बैंक ऑफ इंडिया द्वारा संचालित एटीएम को अपना निशाना बनाया। रात में गश्त कर रहे पुलिस दल की सतर्कता  के चलते लुटेरों का एटीएम लूटने  का इरादा असफल रहा। सोमवार  को एटीएम में डाले गए 11 लाख  रुपए बच गए। प्राप्त जानकारी के अनुसार एटीएम लुटेरों की गैंग नागपुर जिले  में घूम रही है। यह गुप्त जानकारी  पुलिस दल को मिली। इस आधार पर कोंढाली पुलिस तथा नागपुर जिला ग्रामीण का प्रतिबंधक डकैती दस्ता दल रात में गश्त पर था। नागपुर जिले के एटीएम को निगरानी में  रखा था। इसलिए राजमार्ग पर गश्त बढ़ाई थी। पुलिस दल द्वारा इसी सतर्कता के चलते प्रतिबंधक डकैती गश्ती दल बाजारगांव के पास पहुंच ही रहा था, वहीं लूटेरों द्वारा भी राजमार्ग  के दोनों  छोर पर ध्यान रखा जा रहा था। पुलिस दल वाहन आने की आहट  मिलते ही लुटेरे अपने  वाहन से भाग गए। इस बीच लुटेरों ने एटीएम के सीसीटीवी के केबल, बैटरी के केबल तथा बिजली के वायर काट कर एटीएम को ले भागने का प्रयास  किया लेकिन, पुलिस दल वाहन की आहट मिलते ही लुटेरे भाग गए। जिससे एटीएम में डाले गए 11 लाख रुपए बच गए। नागपुर-मुंबई  राजमार्ग  के एटीएम की सुरक्षा पर सवाल  उठ रहे  हैं। घटना की शिकायत एटीएम संचालक छगन गंभीरदास चोरमार (34) नागपुर ने कोंढाली पुलिस स्टेशन में की है। 

कमेंट करें
Nx8un