दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर जिला कांग्रेस खेमे के उम्मीदवार को टिकट दिलाने लॉबिंग का प्रयास

January 24th, 2019

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। तीन राज्यों मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन के बाद अब कांग्रेस की लोकसभा चुनाव के लिए तैयारियां परवान पर है। इस कड़ी में नागपुर जिला कांग्रेस के करीब 90 पदाधिकारियों का एक प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली आकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर जिले में पार्टी की संगठनात्मक तैयारियों का लेखा-जोखा पेश किया। हालांकि उम्मीदवारों की अभी टिकट के लिए जंग शुरु नही हुई है, लेकिन माना जा रहा है कि इन पदाधिकारियों का अपने खेमे के चहतों को टिकट दिलाने के लिए लॉबिंग का यह प्रयास था।

नागपुर शहर कांग्रेस के अध्यक्ष एवं पूर्व महापौर विकास ठाकरे के नेतृत्व में दिल्ली आए प्रतिनिधिमंडल ने महाराष्ट्र के प्रभारी एवं महासचिव मल्लिकाअर्जून खड़गे, वरिष्ठ नेता गुलाम नवी आजाद, ए के एन्टोनी, अहमद पटेल, मोतीलाल वोरा, मुकुल वासनिक और अविनाश पांडे से मुलाकात की। विकास ठाकरे ने बताया कि शहर कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के लिए 2 हजार बूथ तैयार किए है जहां करीब 20 हजार कार्यकर्ताओं तैनात रहेंगे। इन कार्यकर्ताओं का कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अध्यक्षता में प्रशिक्षण शिविर आयोजित किए जाने की नेताओं के समक्ष मांग रखी है।

उन्होने बताया कि इन नेताओं से हमने यह भी गुजारीश की कि नागपुर लोकसभा सीट पर भाजपा नेता नितिन गडकरी के खिलाफ हेवी वेट उम्मीदवार उतारा जाए। बाहरी उम्मीदवार को थोपा न जाए। इसके लिए हमने जिला चयन समिति की ओर से संभावित नामों की सूची प्रदेश चयन समिति को भेजी है। इसमें नागपुर लोकसभा सीट पर उम्मीदवार के तौर पर विलास मुत्तेमवार, डॉ बबनराव तायवाडे, प्रफुल गुडधे, विकास ठाकरे आदि नाम शामिल है। ठाकरे ने कहा कि 29 जनवरी को मुंबई में प्रदेश चुनाव चयन समिति की बैठक होगी। बैठक में इन नामों पर चर्चा होने के बाद संभावित उम्मीदवार के नामों की सूची पार्टी की केन्द्रीय चुनाव समिति को भेजी जाएगी।

गौरतलब है कि पार्टी के एससी सेल के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन राऊत ने नागपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की है। उन्होने यहां तक बताया था कि इस सीट के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हे हरी झंडी दे दी है। क्या उनका नाम भी प्रदेश चयन समिति को भेजा है? यह पूछे जाने पर उन्होने कहा कि वह बड़े नेता है। अगर राहुल गांधी ने उन्हे आश्वस्त किया है तो जिला चयन समिति बनाने का औचित्य क्या है। वे चुनाव लड़ना चाहते है तो रामटेक सीट आरक्षित है। 90 पदाधिकारियों के प्रतिनिधिमंडल में पार्टी के करीब 20 नगरसेवकों के अलावा डॉ बबनराव तायवाडे, विशाल मुत्तेमवार, अभिजीत वंजारी, अतुल लोंढे, संजय महाकालकर, प्रशांत धवड, उमाकांत अग्निहोत्रा शामिल थे।

लोकसभा चुनाव लड़ेगी आप 

उधर मुंबई में आम आदमी पार्टी (आप) महाराष्ट्र ने लोकसभा चुनाव के मैदान में उतरने की घोषणा की। गुरुवार को आप के प्रदेश अध्यक्ष ब्रिगेडियर सुधीर सावंत ने यह जानकारी दी। पत्रकारों से बातचीत में सावंत ने कहा कि प्रदेश में पार्टी का जिन लोकसभा सीटों पर जनाधार है उन सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ेगी। राज्य कार्यकारिणी की बैठक में चुनाव लड़ने का फैसला किया जा चुका है। सावंत ने कहा कि इच्छुक उम्मीदवारों से 30 जनवरी तक आवेदन मंगाए गए हैं। इसके बाद उम्मीदवारों की घोषणा की जाएगी। सावंत ने कहा कि पार्टी ने गठबंधन करके चुनाव में उतरने का फैसला किया है। नए गठबंधन की घोषणा 5 फरवरी को की जाएगी। इससे पहले आप की नेता प्रीति शर्मा मेनन ने दावा किया था कि महाराष्ट्र में पार्टी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगी।