दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर की दो प्रतिभाओं को मिला शिवछत्रपति पुरस्कार

February 19th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य सरकार द्वारा वर्ष 2018-19 के शिवछत्रपति पुरस्कार की घोषणा नागपुर के अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टबॉल खिलाड़ी पीयूष आंबुलकर के लिए निश्चित ही यादगार पल साबित हुआ। इस खेल से राज्य के प्रथम पुरुष खिलाड़ी बने पीयूष ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कड़ी मेहनत और संघर्ष के बाद यह एक सुखद अहसास है, जिसे शब्दों में बता पाना मुश्किल है। हालांकि उन्होंने कहा कि सफर अभी बस शुरू ही हुआ है। हमें लंबी दूरी तय करनी है। साॅफ्टबॉल में बहुत संभावना है और राज्य सरकार ने इस खेल को युवाओं द्वारा कैरियर के रूप में अपनाए जाने में मदद करनी चाहिए। पीयूष आंबुलकर के साथ नागपुर की तलवारबाज दामिनी रंभाड़ को भी शिवछत्रपति पुरस्कार से नवाजे जाने की घोषणा हुई। वर्ष 2017 में विश्वकप क्वॉलीफायर में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके पीयूष ने अपने यहां तक के सफर के लिए कोच दर्शना पंडित, साथ खेलने वाले खिलाड़ी और एसोसिएशन के पदाधिकारियों का आभार माना है। उन्होंने कहा कि सॉफ्टबॉल में प्रथम शिवछत्रपति पुरस्कार वर्ष 1993 में दिया गया था। उसके बाद दूसरा खिलाड़ी चुनने के लिए राज्य सरकार को लगभग 16 वर्ष का समय लगा। इससे साफ है कि इस खेल के प्रति राज्य सरकार का नजरिया किसी प्रकार है। सरकारी नौकरी में सॉफ्टबॉल के खिलाड़ियों का मूल्यांकन नहीं होता है। बावजूद इसके खिलाड़ी मैदान पर जाकर पसीना बहा रहे हैं। 
इन सभी बातों पर ध्यान देने की जरूरत है।

खबरें और भी हैं...