comScore

एनडीसीसी बैंक घोटाला : जानबूझकर ट्रायल में देरी करने का आरोप , नहीं रुकेगा ट्रायल

एनडीसीसी बैंक घोटाला : जानबूझकर ट्रायल में देरी करने का आरोप , नहीं रुकेगा ट्रायल

डिजिटल डेस्क, नागपुर। बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर खंडपीठ ने  एनडीसीसी बैंक घोटाले से जुड़े ट्रायल पर रोक लगाने का आदेश जारी नहीं किया। हाईकोर्ट में प्रकरण में आरोपी संजय अग्रवाल ने अर्जी दायर कर ट्रायल पर रोक लगाने की प्रार्थना की है। 

अग्रवाल का दावा है कि उसे ट्रायल से अलग करके नागपुर में सुनवाई ली जा रही है, जो न्यायसंगत नहीं है। इस अर्जी के जवाब में याचिकाकर्ता आेमप्रकाश कामड़ी के अधिवक्ता श्रीरंग भंडारकर ने दावा किया कि यह अर्जी पूरी तरह निराधार है और जानबूझ कर ट्रायल में देर करने के उद्देश्य से जारी की गई है। हाईकोर्ट ने मामले में राज्य सरकार से 13 दिसंबर तक जवाब मांगा है। इधर निचली अदालत में 2 दिसंबर को ट्रायल शुरू होना है। हाईकोर्ट के गुरुवार के फैसले से निचली अदालत में ट्रायल को हरी झंडी मिल गई है।

यह है मामला
पुलिस में दर्ज मामले के अनुसार, विशेष लेखा परीक्षक विश्वनाथ असवरे ने बैंक का ऑडिट करके 29 अप्रैल 2002 में गणेशपेठ पुलिस थाने मंे शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद बैंक के पूर्व अध्यक्ष सुनील केदार, महाव्यवस्थापक अशोक चौधरी और अन्य पर धारा 406, 409, 468, 12-ब, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया था, लेकिन मामले में ट्रायल मंे अत्याधिक देरी हो रही थी।  प्रकरण में वर्षों से लंबित ट्रायल के मुद्दे को याचिकाकर्ता ओमप्रकाश कामड़ी ने नागपुर खंडपीठ के समक्ष उठाया था, जिस पर हाईकोर्ट ने ट्रायल के लिए एक समर्पित न्यायालय का गठन किया। साथ ही  हाईकोर्ट में प्रकरण को जनहित याचिका के रूप में सुनने का निर्णय लिया।

स्टेशन पर सीसीटीवी फुटेज से मोबाइल चोर पकड़ा
स्टेशन पर मध्यरात्रि में एक यात्री का मोबाइल चुराने वाले को आरपीएफ ने सीसीटीवी की मदद से पकड़ लिया। उसे आगे की कार्रवाई के लिए जीआरपी के हवाले किया गया। फरियादी सोदान सिंह (25), निवासी मध्यप्रदेश है। सोदान सिंह रात के समय स्टेशन परिसर में सोया हुआ था। 2 से 2.30 के बीच अज्ञात व्यक्ति ने उसका 5,200 रुपए कीमत का मोबाइल चुरा लिया। मोबाइल चोरी होने की बात ध्यान में आने पर सोदान सिंह ने आरपीएफ थाने में मोबाइल चोरी होने की जानकारी दी। पश्चात सीसीटीवी फुटेज चेक किए गए। फुटेज में एक व्यक्ति मोबाइल चुराते हुए दिखाई दिया। जिसके बाद आरपीएफ ने उसकी तलाश शुरू की। सुबह 5.30 बजे वह व्यक्ति स्टेशन के प्लेटफार्म नं-1 पर गार्ड लॉबी के पास दिखाई दिया। पूछताछ करने पर उसने अपना नाम सचिन भीमराव तागड़े ( 28), निवासी नंदनवन बताया। चोरी के बारे में सख्ती से पूछताछ करने पर उसने मोबाइल चुराने की बात स्वीकार की।

कमेंट करें
mMEZv