comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जिला अस्पताल में लापरवाही - मरीजों का नाश्ता गायब, खाना भी तीन बजे नसीब हुआ

जिला अस्पताल में लापरवाही - मरीजों का नाश्ता गायब, खाना भी तीन बजे नसीब हुआ

मरीज बेहाल, इलाज के साथ सबसे ज्यादा जरूरी भोजन ही ठीक से नहीं मिल रहा
डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा।
जिला अस्पताल में व्यवस्थाएं सुधरने के बजाए और बिगड़ते जा रही है। कोरोना के मरीज अव्यवस्था और लापरवाही का शिकार बन रहे हैं। यहां हर दिन अलग-अलग ढंग की लापरवाही सामने आ रही है। बुधवार को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में मरीजों को सुबह का नाश्ता नसीब ही नहीं हुआ। दोपहर का भोजन भी दो बजे के बाद उपलब्ध कराया गया। जिला अस्पताल में मरीजों की हालत खराब है। इसका प्रमुख कारण इलाज के अलावा मरीजों की देखरेख में कमी भी बताई जा रही है। कोरोना मरीजों को चिकित्सक बेहतर व भरपेट भोजन करने की सलाह दे रहे हैं, लेकिन जिला अस्पताल में मरीजों को दोपहर तक भूखा रहना पड़ रहा है। बुधवार को कोविड वार्ड मेें मरीजों का नाश्ता पहुंचा ही नहीं। मरीज भूखे बिस्तर पर पड़े रहे। इतना ही नहीं नाश्ता नहीं मिला उसके बाद खाना भी दो बजे के बाद ही मरीजों तक पहुंचा। भूखे रहने के कारण भी मरीजों की स्थिति बिगड़ रही है। जबकि जिला अस्पताल प्रबंधन कम से कम मरीजों को समय पर नाश्ता और खाना उपलब्ध करा सकता है।
बेहतर नाश्ता और भोजन देने का दावा कर रहा प्रशासन
जिला प्रशासन ने दो दिन पहले ही एक स्टेटमेंट जारी किया था कि मरीजों के परिजन बिलकुल भी परेशान न हों। मरीजों के लिए सुबह से बेहतर नाश्ता, दोपहर का खाना, शाम की चाय और रात के भोजन की व्यवस्था की गई है। हालांकि प्रशासन इस व्यवस्था के प्रति जिम्मेदारी भी निभा रहा है लेकिन वार्डों की मॉनिटरिंग किसी भी लेवल पर नहीं की जा रही है। नाश्ता वार्ड के बाहर रख दिया जाता है जिसे वो मरीज तो उठा लेते हैं जो चल फिर रहे हैं लेकिन जो मरीज पलंग से उठ ही नहीं पा रहे वे नाश्ता तक नहीं ले पा रहे हैं।

कमेंट करें
thzc2