comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

क्राईम से जुड़ी खबरें : बालाजी फर्म का संचालक अपने साथी सहित गिरफ्तार

क्राईम से जुड़ी खबरें : बालाजी फर्म का संचालक अपने साथी सहित गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, नागपुर। गुजरात के जिगरभाई पटेल से 5 करोड़ की ठगी करने के आरोप में नागपुर की अपराध शाखा पुलिस ने गुजरात के हवाला कारोबारी व बालाजी फर्म के संचालक अरविंद पटेल और उसके करीबी दोस्त अंकित कुमार पटेल को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने अजय पटेल को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। शनिवार को अपराध शाखा पुलिस ने आरोपी अरविंद पटेल और अंकित कुमार पटेल को न्यायालय के समक्ष पेश किया। न्यायालय ने अरविंद और अंकित कुमार को 23 अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। इन आरोपियों को आरोपी संतोष आंबेकर और अन्य आरोपियों की निशानदेही पर गिरफ्तार किया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि बालाजी फर्म के संचालक अरविंद पटेल और संतोष आंबेकर गहरे दोस्त हैं। पुलिस यह मानकर चल रही है कि आरोपी अरविंद अपने मित्र संतोष आंबेकर के सहयोग से नागपुर में हवाला का कारोबार कर रही थी। इस दिशा में पुलिस की जांच शुरू हो चुकी है। सभी आरोपी नागपुर के संतोष आंबेकर के साथ मिलकर गुजरात के जिगरभाई पटेल के साथ मुंबई में एक जमीन खरीदने के मामले मेें 5 करोड़ रुपए की ठगी की। इन आरोपियों के संतोष आंबेकर से बेहद करीबी संबंध होने की जानकारी मिलने पर पुलिस ने अरविंद और अंकित कुमार को गिरफ्तार किया है। नागपुर में आंबेकर के लिए काम करने वाले कुछ बदमाश भूमिगत हो गए हैं। मेडिकल अस्पताल के आईसीयू में जब संतोष भर्ती था, तब उससे कोई भी साथी मिलने नहीं आया था। पुलिस को संतोष आंबेकर के नागपुर के कुछ साथियों के नामों की सूची मिल चुकी है, इनकी भी जल्द ही धर-पकड़ शुरू होने वाली है। बता दें कि संतोष आंबेकर की महिला मित्र जुही चौधरी, उसके पति चंदन चौधरी को गत दिनों मुंबई से गिरफ्तार किया गया। चौधरी दंपति, संतोष, अजय और उसका भांजा नीलेश केदार 23 अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर हैं। 

पुलिस ने पकड़ा 300 किलो मांस आरोपी फरार

कामठी के जूना पुलिस थाना अंतर्गत पेट्रोलिंग के दौरान एक गाड़ी पकड़ी। गाड़ी में मवेशियों का करीब 300 किलो मांस रखा था। पुलिस को देख आरोपी चालक वाहन छोड़कर फरार हो गया। जानकारी अनुसार कामठी के जूना पुलिस थाने के डीबी पथक के किशोर गांजरे, विजय सिन्हा, रोशन पाटील व पवन गजभिए पेट्रोलिंग कर रहे थे। उन्हें सूचना मिली कि, किसी वाहन में मवेशियों का मांस ले जाया जा रहा है। सूचना के आधार पर पुलिस ने चौधरी मस्जिद के पास गाड़ी क्र.-एम.एच.-36-ए.ए.-0258 को रूकने का इशारा किया। पुलिस को देखते ही चालक वाहन छोड़ कर भाग खड़ा हुआ। तलाशी लेने पर गाड़ी में कटा हुआ पाया गया। गाड़ी को थाने में जमा किया गया। मांस करीब 300 किलो था। मांस की कीमत करीब 36 हजार रुपए बताई जा रही है। वाहन सहित कुल 3 लाख 36 हजार का माल जब्त किया गया। कार्रवाई परिमंडल-5 के डीसीपी निलोत्पल, एसीपी कामठी राजरतन बंसोड़ तथा वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक देवीदास कठाले के मार्गदर्शन में की गई।
 

सवा लाख के बाल चुराए, माल जब्त 

उधर गणेशपेठ क्षेत्र में एक दुकान का ताला तोड़ कर सिर के कटे हुए बाल चुराने के आरोप में पुलिस ने दो चोरों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के नाम  दीपक विमल सोनी और विशाल उर्फ राहुल शामचंद्र राॅय, कैकाड़ी नगर, महारुद्र नगर रोड, बेसा टी-प्वाइंट, सोमवार बाजार निवासी है। दोनों ने विनोद शिंदे नामक व्यक्ति की दुकान का ताला तोड़ कर चार बोरी सिर के बाल चुरा लिए थे। इन बालों  की कीमत करीब 1 लाख 20 हजार रुपए बताई गई है। आरोपियों ने दुकान के गल्ले में रखे 70 हजार रुपए नकद भी चुरा लिए थे। धामना अमरावती रोड, हिंगना निवासी विनोद शिंदे की गणेशपेठ क्षेत्र में साखरे गुरुजी स्कूल के पास सिर के बालों की खरीदी-बिक्री की दुकान है। वह दुकान को ताला बंद कर घर चला गया। दूसरे दिन आने पर दुकान में चोरी होने की बात पता चली। उसने गणेशपेठ थाने में शिकायत की। पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज किया है। जांच के दौरान पुलिस ने आरोपी दीपक और विशाल को धर-दबोचा।दोनों ने  दुकान से बालों से भरी चार बोरियां चुराई थी। 

नीलगाय के मांस के साथ तीन गिरफ्तार

खेत को जंगली जानवरों से बचाने के लगाए गए बिजली के करंट से नीलगाय की मौत होे गई। हिंगना में नीलगाय की मांस के साथ तीन आरोपियोें को गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों में  सतीश डोमाजी केलवदे (25), सतीश वामन शिवरकर (21)  रायपुर हिंगना व अमर दिलीप कुरवाले (20) वानाडोंगरी निवासी शामिल है। वनविभाग ने इन आरोपियों से करीब 30 किलो नीलगाय की मांस, तराजू , 3 सत्तुर जब्त किया है। वनविभाग ने गुप्त सूचना मिलने पर रायपुर निवासी आरोपी सतीश के घर पर छापा मारा। शनिवार की सुबह करीब 11 बजे यह कार्रवाई की गई। तीनों आरोपी नीलगाय को काटते हुए मिले।  नीलगाय के पैर और मांस को जब्त किया गया है। पूछताछ में उक्त तीनों ने बताया िक  हिंगना में खेत में शुक्रवार की रात बिजली का करंट लगाया था। इससे नीलगाय की मौत हो गई। इसे सुबह सतीश के घर पर लाकर काट रहे थे। इस बारे में वनविभाग को सूचना मिलने पर छापामार कार्रवाई की गई। आरोपियों पर धारा 2, 9, 39, 48,48 अ के तहत मामला दर्ज कर तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। 


 

कमेंट करें
2WrIg
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।