मरीज को लेकर निजी अस्पताल में हंगामा, परिजनों ने लगाए आरोप: हृदय रोक विशेषज्ञ नहीं और थमा दिया 40 हजार का बिल

September 20th, 2021


डिजिटल डेस्क जबलपुर। कटंगी रोड स्थित निजी अस्पताल में मरीज को धोखे में रखकर इलाज देने का मामला सामने आया है। दरअसल दमोह के एक डॉक्टर ने 15 सितंबर को बक्सवाहा निवासी 63 वर्षीय महिला को जाँच के बाद शहर के एक बड़े हृदय रोग विशेषज्ञ के पास इलाज के लिए रेफर किया था लेकिन पहले से साठगाँठ के चलते एम्बुलेस संचालक मरीज को संस्कारधानी अस्पताल ले गया, जहाँ उक्त हृदय रोग विशेषज्ञ बैठते ही नहीं हैं। 4 दिन बाद जब परिजनों को इसकी जानकारी लगी तो अस्पताल में हंगामा किया और डिस्चार्ज करने की माँग की। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन द्वारा मरीज को 60 हजार का बिल थमा दिया गया जबकि मरीज के पास आयुष्मान कार्ड भी था। डिस्चार्ज करने में देरी करने से परेशान होकर पीडि़तों ने सीएम हेल्पलाइन में शिकायत की। इसकी जानकारी लगने के बाद अस्पताल प्रबंधन ने बिल की आधी राशि जमा कराने के बाद मरीज को डिस्चार्ज किया। डिस्चार्ज कराने के बाद मरीज को परिजन हृदयरोग विशेषज्ञ के पास लेकर पहुँचे, जहाँ आयुष्मान योजना के अंतर्गत उपचार शुरू हुआ।

 

खबरें और भी हैं...