दैनिक भास्कर हिंदी: अब आंगनवाड़ी सेविकाएं हुईं "स्मार्ट", ऑनलाइन हुआ पूरा कामकाज

May 26th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अब आंगनवाड़ी सेविकाओं को सारा कामकाज ऑनलाइन ही करना होगा। एकात्मिक बाल विकास सेवायोजना (आईसीडीएस) की ओर से आंगनवाड़ी सेविकाओं को स्मार्ट फोन दिए गए हैं। अब आंगनवाड़ी में होने वाले कामकाज की जानकारी अब रजिस्टर में नहीं भरनी होगी। सेविकाएं अपने मोबाइल से सारी जानकारी ऑनलाइन भरेंगी। स्मार्ट फोन चलाने में कोई दिक्कत न हो इसलिए सेविकाओं को विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उपराजधानी में बाल विकास प्रकल्प अधिकारी (सीडीपीओ) के छह कार्यालय हैं। इनकी निगरानी में शहर में आंगनवाड़ी का कामकाज संचालित होता है। महानगर में 900 से ज्यादा आंगननवाड़ियां हैं। यहां गरीब व झोपड़पट्टी में रहने वाले बच्चों को क, ख, ग सिखाने के साथ ही खिचड़ी भी दी जाती है। आंगनवाड़ी में होने वाले कामकाज का ब्यौरा रजिस्टर में लिखकर इसे सीडीपीओ कार्यालय में जमा करना पड़ता था।

बच्चों को पढ़ाने के बाद सारा डाटा कार्यालय में जाकर जमा करना सेविकाओं के लिए भी काफी परेशानी का सबब बन रहा था। महिला व बाल विकास मंत्रालय के निर्देश पर आईसीडीएस की तरफ से नागपुर समेत राज्य भर की आंगनवाड़ी सेविकाओं को स्मार्ट फोन दिए गए हैं। सेविका को सारा डाटा व जानकारी आईसीडीएस कैस (सीएएस) एप पर ऑनलाइन भेजनी है। स्मार्ट फोन कैसे चलाया जाए और किस तरह ऑनलाइन जानकारी भेजी जाए, इस बारे में सेविकाओं को विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है। यह 10 दिन का प्रशिक्षण है। सेविकाओं की आयु 40 से 60 साल तक है। 60 साल की आयु वाली सेविकाओं को स्मार्ट फोन पर ऑनलाइन डाटा भेजने में अभी परेशानी हो रही है। एप पर अलग-अलग प्रकार के फार्मेट में जानकारी भरकर भेजना है।

11 को सेविकाओं का मोर्चा

विभिन्न मांगों को लेकर 11 जून को नागपुर समेत राज्य भर की सेविकाओं का आजाद मैदान में मोर्चा आयोजित किया गया है। आंगनवाड़ी कर्मचारी संगठन सीटू की ओर से सेविकाओं की मांगों को लेकर 8 व 9 जून को मुंबई में बैठक होगी। सीटू का प्रतिनिधिमंडल 10 जून को मुंबई में एकात्मिक बाल विकास सेवायोजना के आयुक्त से मिलेगा। 11 जून को आंगनवाड़ी कृति समिति की ओर से मोर्चा निकाला जाएगा। राज्य भर से सेविकाएं आजाद मैदान में इकट्ठा होंगी।